Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 2 min read

‘कोंच नगर’ जिला-जालौन,उ प्र, भारतवर्ष की नामोत्पत्ति और प्रसिद्ध घटनाएं।

🌹नामोत्पत्ति

👉प्राचीन काल में यहां पर एक प्राकृतिक झील थी। इस प्राकृतिक झील पर क्रेन सहित कई अन्य पक्षियों का भी आना जाना रहता था। झील में अनवरत जल झरता रहता था। झील के पास प्राकृतिक सुंदरता के आकर्षण से सबको लुभाने वाला एक लघु पर्वत था। इसी मनमोहक प्राकृतिक स्थान पर ईस्वी सन् के पूर्व ‘क्रौंच ऋषि’ ने तपस्या की थी ।
देखें
मेरी कृति “क्रौंच सु ऋषि आलोक” खंड काव्य के “आश्रम का विकास” खंड की एक कुंडलिया….

गिरिवर के पश्चिम तरफ एक प्राकृतिक झील।
दक्षिण-पूरव झर रहे निर्झर का शुभ तीर।।
निर्झर का शुभ तीर, सुरक्षित जानवरों से।
इधर बनी तपभूमि, मंत्रमय पुण्य स्वरों से।।
‘नायक’ भॅंवरे यहाॅं, वहाॅं पर हर्षित तरुवर।
खग कलरव-उत्कर्ष, प्रकृति सद्ऑंगन गिरिवर।।

👉साहित्यपीडिया पब्लिशिंग,नोएडा,भारतवर्ष से प्रकाशित मेरे (पं बृजेश कुमार नायक के) शोधपरक ग्रंथ ‘क्रौंच सु ऋषि आलोक’ खंड काव्य के द्वितीय संस्करण ISBN 978-81-937022-8-4 के अनुसार ‘क्रौंच ऋषि’ के नाम पर इस शहर का नाम कोंच पड़ा।
. देखिए मेरी कृति ‘क्रौंच सु ऋषि आलोक’ खंड काव्य की ‘कोंच नगर का विकास’ खण्ड की कुंडलिकाओं की कुछ पंक्तियां…….

छोटा सा घर बन गया, क्रौंच पड़ गया नाम।
दक्षिण दिश गिरि-तट सुखद, सुंदर यौवन धाम।।

घर अब मजरारूप में, करने लगा विकास।
क्रौंच नाम से र हटा, कोंच बना जनभाष।।

🌹प्रसिद्ध घटनाएं

👉ईस्वी सन् के पूर्व क्रौंच ऋषि ने यहां पर तपस्या की थी इसलिए यह स्थान क्रौंच ऋषि की तपोभूमि के लिए प्रसिद्ध है।

👉चौड़ा-काल में बावन गढ़ों की लड़ाई के लिए सैन्य तैयारी हेतु यह स्थान दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान के पक्ष की सेना के लिए बनाए गए चौंड़ा-काल के ‘सैन्य प्रशिक्षण केंद्र’ के लिए भी विख्यात है।

👉 ‘चौंड़ा’ दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान की सेना का अधिपति था।

👉बैरागढ़,जिला जालौन,उत्तर प्रदेश,भारतवर्ष में ‘शारदा माता के पावन मंदिर’ के समीप आल्हा और दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान के बीच ‘बावन गढ़ों की लड़ाई के रूप में’ अंतिम युद्ध हुआ था, जिसमे ‘चौंड़ा’ ने वीरगति प्राप्त की थी।

👉चौड़ा-काल में प्राकृतिक एवं मनमोहक इस स्थान के प्राकृतिक सौंदर्य का सबसे ज्यादा क्षरण हुआ।

देखिए मेरी कृति ‘क्रौंच सु ऋषि आलोक’ खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ के द्वितीय संस्करण की रचना ‘अमर कोंच इतिहास’ की कुछ पंक्तियां

महायुद्ध की शंका, आए चंद्रभाट सॅंग भूप।
क्रौंच सु ऋषि तपभू खुदवाई समरभूमि अनुरूप।

झील बॅंट गई दो तालों में, अब भी है अवशेष।
ताल भुॅंजरया इक तो दूजा चौंड़ा-ताल ‘बृजेश’।

इसी क्रम में देखिए
चौड़ा-काल में इस स्थान पर हुए दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान के पक्ष की समस्त सेना के सैन्य प्रशिक्षण पर कुछ पंक्तियां …….

सैन्य प्रशिक्षण चरमरूप पर, लड़ते ज्यों दो राज।
बैरागढ़ रणभूमि बनेगी, पहनू विजयी ताज।

👉 चौंड़ा को चौंड़िया नाम से भी जाना जाता है।

ऊॅ नमः शिवाय।
🙏🌹🙏

🌹👉मेरी (पं बृजेश कुमार नायक की) कृति ‘क्रौंच सु ऋषि आलोक’ खण्ड काव्य का द्वितीय संस्करण साहित्यपीडिया पब्लिशिंग, नोएडा, भारतवर्ष से प्रकाशित है और अमेज़न-फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

Language: Hindi
844 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
"झाड़ू"
Dr. Kishan tandon kranti
ना तो कला को सम्मान ,
ना तो कला को सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
"समय का मूल्य"
Yogendra Chaturwedi
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
कजरी
कजरी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब गुज़रा वो लड़कपन,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#अच्छे_दिनों_के_लिए
#अच्छे_दिनों_के_लिए
*Author प्रणय प्रभात*
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
नीलम शर्मा ✍️
नीलम शर्मा ✍️
Neelam Sharma
मंगल दीप जलाओ रे
मंगल दीप जलाओ रे
नेताम आर सी
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*प्रभु नहीं मिलते हैं पोथियों को पढ़-पढ़【 घनाक्षरी 】*
*प्रभु नहीं मिलते हैं पोथियों को पढ़-पढ़【 घनाक्षरी 】*
Ravi Prakash
कोहरा
कोहरा
Ghanshyam Poddar
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
*** होली को होली रहने दो ***
*** होली को होली रहने दो ***
Chunnu Lal Gupta
Speciality comes from the new arrival .
Speciality comes from the new arrival .
Sakshi Tripathi
23/16.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/16.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
सारी दुनिया में सबसे बड़ा सामूहिक स्नान है
सारी दुनिया में सबसे बड़ा सामूहिक स्नान है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
Manisha Manjari
Loading...