Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)

कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ?
(हास्य कविता)

मुझे तो बस यही चिंता सत्ता रही
की बजी अब चुनाबी घंटी
मैं कैसे अपना वोट बैंक बढ़ाऊँ
सत्ता की गलियारों में फिर कैसे ऊधम मचाऊँ?

चुनावी घोषणापत्र में
कितने अच्छे-अच्छे ऑफर
कोई ऑफर छूटे तो नहीं
भोली-भाली जनता को कैसे समझाऊं?

फ्रीवाला ऑफर तो बहुत हो लिया
क्या करूँ? जो इनको ललचाऊँ
वोट सिर्फ मुझे ही देना भाई
हर किसी को यही बात समझाया.

हम तो पहुँचे ही थे अभी
चुनावी ऑफर लेकर जनता के पास
इतने में ओ विपक्षी भी आ धमके
हमें झूठा बतलाकर, अपनी हवा-हवाई में लगे.

मैं उसे, वो मुझे झूठा कह रहा
चुनावी भाषणो से जनता को लुभा रहा
इन लुभावने घोषणाओं से कैसे भरमाऊँ?
मैं कैसे अपना वोट बैंक कैसे बढ़ाऊँ?

जनता का कुछ भला नहीं
सिर्फ़ दिखावे के रंग-बिरंगे घोषणाएं
कुर्सी पे क़ाबिज़ हो सकूँ कैसे?
नेता हूँ, समझो हमारी भी जनभावनाएं.

हर एक का विकास करूँगा
सिर्फ़ कहता, पर करता कभी नहीं
सत्ता मिले तो, कैसे अपनी सम्पति बढाऊँ?
मैं कैसे अपना वोट बैंक बढ़ाऊं?

कवि- किशन कारीगर
(कॉपीराइट@ सर्वाधिकार सुरक्षित)

Language: Hindi
1 Like · 382 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan Karigar
View all
You may also like:
* नहीं पिघलते *
* नहीं पिघलते *
surenderpal vaidya
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
Er.Navaneet R Shandily
💐प्रेम कौतुक-398💐
💐प्रेम कौतुक-398💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
बड़े भाग मानुष तन पावा
बड़े भाग मानुष तन पावा
आकांक्षा राय
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
वो मेरे बिन बताए सब सुन लेती
वो मेरे बिन बताए सब सुन लेती
Keshav kishor Kumar
@The electant mother
@The electant mother
Ms.Ankit Halke jha
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
VEDANTA PATEL
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
मानवता दिल में नहीं रहेगा
मानवता दिल में नहीं रहेगा
Dr. Man Mohan Krishna
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
Ranjeet kumar patre
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
Mahendra Narayan
कभी कभी ये पलकें भी
कभी कभी ये पलकें भी
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
Anil chobisa
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
Happy Holi
Happy Holi
अनिल अहिरवार"अबीर"
बाल कहानी- डर
बाल कहानी- डर
SHAMA PARVEEN
पत्नी
पत्नी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
3232.*पूर्णिका*
3232.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
टूटे न जब तक
टूटे न जब तक
Dr fauzia Naseem shad
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*वैराग्य के आठ दोहे*
*वैराग्य के आठ दोहे*
Ravi Prakash
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
ओनिका सेतिया 'अनु '
"खैरात"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...