Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2022 · 1 min read

कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी, जो हाथों की लक़ीरें तक बाँट चली।

कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी,
जो हाथों की लक़ीरें तक बाँट चली।
सपने तो उन आँखों में कभी आ ना सके,
वो तो अपनी नींद भी, किसी की उमीदों पर वार चली।
पलों में जो अनछुए एहसास जगे,
हर क्षण में वो उनका मूल्य चुका कर चली।
गीली होतीं रही अश्रु से पलकें,
पर अपने दर्द पर मुस्कराहट का हिज़ाब वो तान चली।
आशाओं के बोझ तले कदम कई बार थके,
पर मंजिलों की तलाश में, वो हिम्मतों का हाथ थाम चली।
बड़ी भाँती थी उसकी रूह को ये बारिशें,
पर कर के उन बादलों को भी अलविदा, वो उस शाम चली।
किसी की आँखों में नयी रौशनी की चाह थी उसे,
फिर कर के अपना हीं जीवन वो, अंधेरों के नाम चली।

6 Likes · 6 Comments · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरा होना...... मैं चाह लेता
तेरा होना...... मैं चाह लेता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#तन्ज़िया_शेर...
#तन्ज़िया_शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी चाहत का कैदी
तेरी चाहत का कैदी
N.ksahu0007@writer
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"बिन तेरे"
Dr. Kishan tandon kranti
2486.पूर्णिका
2486.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
मर्द रहा
मर्द रहा
Kunal Kanth
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
rajeev ranjan
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
Shyam Sundar Subramanian
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
shabina. Naaz
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा गांव
मेरा गांव
Anil "Aadarsh"
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
यादों में
यादों में
Shweta Soni
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
Jay prakash
Jay prakash
Jay Dewangan
स्वास्थ्य का महत्त्व
स्वास्थ्य का महत्त्व
Paras Nath Jha
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
* वक्त  ही वक्त  तन में रक्त था *
* वक्त ही वक्त तन में रक्त था *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*स्वामी विवेकानंद* 【कुंडलिया】
*स्वामी विवेकानंद* 【कुंडलिया】
Ravi Prakash
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
Om Prakash Nautiyal
Loading...