Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2018 · 2 min read

कृष्ण-कर्ण संम्वाद ,प्रसंगवस-आज के परिवेश में

कृष्ण-कौन्तेय,करो तुम इस पर विचार,
पाण्डवों का साथ देकर,करो भूल में तुम सुधार।
कर्ण-“हे मधुसूदन,देर हुई अब,
लौट मै नही सकता,
दिया वचन है मां गान्धारी को,भाग नही मै पाऊंगा
जीवित रहते,मै दुर्योधन को छोड के नही जाऊंगा
कर्ण- केशव मुझको यह बतलाओ,
दोष मेरा तब क्या था,मां ने जन्मा,फिर क्यों तब मुझको छोड दिया,क्षत्रिय न था तो गुरु द्रौण ने शिक्षा से भी वंचित किया, ऋषि परशुराम ने दी थी,शिक्षा और फिर शापित भी किया,
किया गया तब भी अपमानित,द्रौपदी का जब स्वयमंबर हुआ, वह दुर्योधन ही तो था,
जिसने मुझको समझा,और अंग राज से सम्मानित किया,अब जब उस पर संकट आया है,
मै उसका साथ छोड दूँ कैसे,
नही माधव,यह मै कर न सकूंगा, ऐसै,
जीत हार अब अर्थ हीन है,
कलकिंत होकर मै जी न सकूंगा ।
कृष्ण-“अंगराज,तो सुनो मुझे,
काल कोठरी मे जन्म हुआ था,
मात पिता ने भी त्याग दिया ,
कर दूर अपने आंचल से,मां यशोदा को सौपं दिया
पशुशालाओं मे पला बढा,भय का आलम इतना था,गऊओं संग जीवन साधा,
कितने असुरों को मैने झेला,
शिक्षा से भी मैं वंचित रहा हुँ,
हासील यह किशोरावस्था मे किया,
ॠषि सन्दीपन के आश्रम में पाकर ज्ञान,
मुझे राज काज को प्रस्तुत किया,
किया प्रेम जिससे मैने,उसको भी मे पा न सका।
तुमने जिसको प्यार किया था,
उसको तुमने पाया भी है, पर मुझको क्या मिला,
मिली मुझे हैं वह सब नारियां,जिन्हे मैने बचाया था
थी वह जब घोर संकट मे,उन आसुरी शक्तियों से मुक्त कराया था,यमुना तट से हट कर मैने,जब नया नगर बसाया था,नाम मिला रण छोड मुझे,तब
क्यों मै यह कहलाया था।
कल अगर दुर्योधन जिता,तो यश तुम्हे अपार मिलेगा,गर जीत मिली धर्मराज को,तो मुझको क्या मिलेगा।
जीवन मे आती ही हैं ये चुनौतियां,
वह चाहे तुम हो या फिर हुँ मै ही,
या फिर वह दुर्योधन हो,या हो वह युद्धिष्ठर ही,
सबको न्याय अन्याय मे न पड कर,
अधर्म नही अपनाना है,यही सार है धर्म ग्रन्थो का
यही मेरा नजराना है,और यही तुम्हे समझाना भी है।

Language: Hindi
511 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jaikrishan Uniyal
View all
You may also like:
2975.*पूर्णिका*
2975.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक मुट्ठी राख
एक मुट्ठी राख
Shekhar Chandra Mitra
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
*चित्र में मुस्कान-नकली, प्यार जाना चाहिए 【हिंदी गजल/ गीतिका
*चित्र में मुस्कान-नकली, प्यार जाना चाहिए 【हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
20
20
Ashwini sharma
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Jatashankar Prajapati
शोख- चंचल-सी हवा
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
राम-वन्दना
राम-वन्दना
विजय कुमार नामदेव
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
जून की दोपहर
जून की दोपहर
Kanchan Khanna
शीत लहर
शीत लहर
Madhu Shah
शिवनाथ में सावन
शिवनाथ में सावन
Santosh kumar Miri
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
Bidyadhar Mantry
खिंचता है मन क्यों
खिंचता है मन क्यों
Shalini Mishra Tiwari
योग
योग
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
बिना आमन्त्रण के
बिना आमन्त्रण के
gurudeenverma198
Loading...