Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

कृषक

तपता सूरज, जलती धरती,
नंगे पाँव न, सिर पर पगड़ी
श्रम सीकर से देह नहायी
अथक परिश्रम, सतत लड़ायी
जीवन में कितनी कठिनायी,
दृढ़ है तू, यह नहीं ढिठाई,
आज अगर विश्राम करेगा
अथक परिश्रम नहीं करेगा,
कैसे फसल काट पायेगा
श्रम- धन कैसे मिल पायेगा
वर्षा में जब धान उगेंगे
धरती को मंडित कर देंगे
झूमेंगे जब मन्द पवन में
मन को आह्लादित कर देंगे,
जलते पाॅंव भूल जायेंगे
धूप-छाॅंव मन को भायेगी,
खड़ी फसल मन हरषायेगी
फसल काट जब घर लायेगा,
दर्द और दुःख मिट जायेगा
मेहनत का फल मिल जायेगा
जीवन मधुमय हो जायेगा।

1 Like · 117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मययस्सर रात है रोशन
मययस्सर रात है रोशन
कवि दीपक बवेजा
Impossible means :-- I'm possible
Impossible means :-- I'm possible
Naresh Kumar Jangir
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
नशा मुक्त अभियान
नशा मुक्त अभियान
Kumud Srivastava
उम्मीद ....
उम्मीद ....
sushil sarna
आज अचानक आये थे
आज अचानक आये थे
Jitendra kumar
भीड़ से आप
भीड़ से आप
Dr fauzia Naseem shad
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
2847.*पूर्णिका*
2847.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
Manisha Manjari
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
*प्रणय प्रभात*
खोते जा रहे हैं ।
खोते जा रहे हैं ।
Dr.sima
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*असीमित सिंधु है लेकिन, भरा जल से बहुत खारा (हिंदी गजल)*
*असीमित सिंधु है लेकिन, भरा जल से बहुत खारा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
डी. के. निवातिया
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
VINOD CHAUHAN
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
Krishna Manshi
Loading...