Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

कुदरत

शीर्षक – कुदरत ***************** सच तो यही जिंदगी कुदरत होती हैं। मन भावों में सोच हम सबकी रहती हैं। हां जमाने में चलना तो मुस्कुराना होता हैं। कुदरत के साथ हम सभी का जीवन होता हैं। सच हमारा फैसले कुदरत के हाथ होते हैं। मुश्किलों से जूझने में हम सभी इंसान होते हैं। कुदरत ने अपने न पराए सोचती करती हैं। रंगमंच पर हम सभी कुदरत के साथ रहते हैं। हां हकीकत में दर्द कहने को हमदर्द ढुढ़ते हैं। न राह में कोई हम सभीअकेले ही चलते हैं।
हां जीवन जिंदगी सब कुदरत और समय होता है ।
************************* नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेख़बर
बेख़बर
Shyam Sundar Subramanian
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
*चिकने-चुपड़े लिए मुखौटे, छल करने को आते हैं (हिंदी गजल)*
*चिकने-चुपड़े लिए मुखौटे, छल करने को आते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
हमारा साथ और यह प्यार
हमारा साथ और यह प्यार
gurudeenverma198
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
काग़ज़ पर उतार दो
काग़ज़ पर उतार दो
Surinder blackpen
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
कवि रमेशराज
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
सुनो ये मौहब्बत हुई जब से तुमसे ।
सुनो ये मौहब्बत हुई जब से तुमसे ।
Phool gufran
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
sushil sarna
सागर तो बस प्यास में, पी गया सब तूफान।
सागर तो बस प्यास में, पी गया सब तूफान।
Suryakant Dwivedi
*जीवन के गान*
*जीवन के गान*
Mukta Rashmi
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
पेड़ और ऑक्सीजन
पेड़ और ऑक्सीजन
विजय कुमार अग्रवाल
शिव वन्दना
शिव वन्दना
Namita Gupta
कुछ
कुछ
Shweta Soni
"ये तन किराये का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
हर जगह मुहब्बत
हर जगह मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
लक्ष्मी सिंह
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
पूर्वार्थ
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
*होली*
*होली*
Dr. Priya Gupta
राम विवाह कि हल्दी
राम विवाह कि हल्दी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
कवि दीपक बवेजा
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
'अशांत' शेखर
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...