Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2016 · 3 min read

कुण्डलिया कैसे लिखें…

कुंडलिया दोहा और रोला के संयोग से बना छंद है। इस छंद के ६ चरण होते हैं तथा प्रत्येकचरण में २४ मात्राएँ होती है। इसे यूँ भी कह सकते हैं कि कुंडलिया के पहले दो चरण दोहा तथा शेष चार चरण रोला से बने होते है।

दोहा के प्रथम एवं तृतीय चरण में १३-१३ मात्राएँ तथा दूसरे और चौथे चरण में ११-११ मात्राएँ होती हैं।

रोला के प्रत्येक चरण में २४ मात्राएँ होती है। यति ११वीं मात्रा तथा पादान्त पर होती है। कुंडलिया छंद में दूसरे चरण का उत्तरार्ध तीसरे चरण का पूर्वार्ध होता है।

कुंडलिया छंद का प्रारंभ जिस शब्द या शब्द-समूहसे होता है, छंद का अंत भी उसी शब्द या शब्द-समूह से होता है। रोला में ११ वी मात्रा लघुतथा उससे ठीक पहले गुरु होना आवश्यक है।

कुंडलिया छंद के रोला के अंत में दो गुरु, चार लघु, एक गुरु दो लघु अथवा दो लघु एक गुरु आना आवश्यक है।

कुण्डलिया छंद के उदाहरण-

सावन बरसा जोर से, प्रमुदित हुआ किसान ।
लगा रोपने खेत में, आशाओं के धान ।।
आशाओं के धान, मधुर स्वर कोयल बोले ।
लिए प्रेम-सन्देश, मेघ सावन के डोले ।
‘ठकुरेला’ कविराय, लगा सबको मनभावन‌ ।
मन में भरे उमंग, झूमता गाता सावन ।।

-×××-

हँसना सेहत के लिए, अति हितकारी मीत ।
कभी न करें मुकाबला, मधु, मेवा, नवनीत ॥
मधु, मेवा, नवनीत, दूध, दधि, कुछ भी खायेँ ।
अवसर हो उपयुक्त, साथियो हँसे – हँसायें ।
‘ठकुरेला’ कविराय, पास हँसमुख के बसना ।
रखो समय का ध्यान, कभी असमय मत हँसना ॥

-×××-

खुद ही बोता आदमी,सुख या दुख के बीज ।
मान और अपमान का, लटकाता ताबीज ।।
लटकाता ताबीज,बहुत कुछ अपने कर में ।
स्वर्ग,नर्क निर्माण,स्वयं कर लेता घर में ।
‘ठकुरेला’ कविराय,न सब कुछ यूँ ही होता ।
बोता स्वयं बबूल,आम भी खुद ही बोता ।।

मात्राओं की गिनती कैसे करें-

काव्य में छंद का अपना महत्व है। छंद रचना के लिए मात्राओं को समझना एवं मात्राओं कि गिनती करने का ज्ञान होना आवश्यक है। यह सर्वविदित है कि वर्णों को स्वर एवं व्यंजन में विभक्त किया गया है। स्वरों की मात्राओं की गिनती करने का नियम निम्नवत है-

अ, इ, उ की मात्राएँ लघु (।) मानी गयी हैं।

आ, ई, ऊ, ए, ऐ ओ और औ की मात्राएँ दीर्घ (S) मानी गयी है।

क से लेकर ज्ञ तक व्यंजनों को लघु मानते हुए इनकी मात्रा एक (।) मानी गयी है। इ एवं उ की मात्रा लगने पर भी इनकी मात्रा लघु (1) ही रहती है, परन्तु इन व्यंजनों पर आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ की मात्राएँ लगने पर इनकी मात्रा दीर्घ (S) हो जाती है।

अनुस्वार (.) तथा स्वरहीन व्यंजन अर्थात आधे व्यंजन की आधी मात्रा मानी जाती है।सामान्यतः आधी मात्रा की गणना नहीं की जाती परन्तु यदि अनुस्वार (।) अ, इ, उ अथवा किसी व्यंजन के ऊपर प्रयोग किया जाता है तो मात्राओं की गिनती करते समय दीर्घ मात्रा मानी जाती है किन्तु स्वरों की मात्रा का प्रयोग होने पर अनुस्वार (.) की मात्रा की कोई गिनती नहीं की जाती।

स्वरहीन व्यंजन से पूर्व लघु स्वर या लघुमात्रिक व्यंजन का प्रयोग होने पर स्वरहीन व्यंजन से पूर्ववर्ती अक्षर की दो मात्राएँ गिनी जाती है। उदाहरण के लिए अंश, हंस, वंश, कंस में अं हं, वं, कं सभी की दो मात्राए गिनी जायेंगी। अच्छा, रम्भा, कुत्ता, दिल्ली इत्यादि की मात्राओं की गिनती करते समय अ, र, क तथा दि की दो मात्राएँ गिनी जाएँगी, किसी भी स्तिथि में च्छा, म्भा, त्ता और ल्ली की तीन मात्राये नहीं गिनी जाएँगी। इसी प्रकार त्याग, म्लान, प्राण आदि शब्दों में त्या, म्ला, प्रा में स्वरहीन व्यंजन होने के कारण इनकी मात्राएँ दो ही मानी जायेंगी

अनुनासिक की मात्रा की कोई गिनती नहीं की जाती.जैसे-
हँस, विहँस, हँसना, आँख, पाँखी, चाँदी आदि शब्दों में अनुनासिक का प्रयोग होने के कारण इनकी कोई
मात्रा नहीं मानी जाती।

अनुनासिक के लिए सामान्यतः चन्द्र -बिंदु का प्रयोग किया जाता है.जैसे – साँस, किन्तु ऊपर की मात्रा वाले शब्दों में केवल बिंदु का प्रयोग किया जाता है, जिसे भ्रमवश कई पाठक अनुस्वार समझ लेते है.जैसे- पिंजरा, नींद, तोंद आदि शब्दों में अनुस्वार ( . ) नहीं बल्कि अनुनासिक का प्रयोग है।

-त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Category: Sahitya Kaksha
Language: Hindi
Tag: लेख
20 Likes · 8 Comments · 1496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
ये आंसू
ये आंसू
Shekhar Chandra Mitra
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
dks.lhp
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाल दिवस
बाल दिवस
Saraswati Bajpai
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
Satish Srijan
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
कोयल कूके
कोयल कूके
Vindhya Prakash Mishra
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
Rj Anand Prajapati
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
-- मृत्यु जबकि अटल है --
-- मृत्यु जबकि अटल है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सरस्वती वन्दना*
*सरस्वती वन्दना*
Ravi Prakash
मैं भारत हूं
मैं भारत हूं
Ms.Ankit Halke jha
💐अज्ञात के प्रति-4💐
💐अज्ञात के प्रति-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
A Donkey and A Lady
A Donkey and A Lady
AJAY AMITABH SUMAN
"हृदय में कुछ ऐसे अप्रकाशित गम भी रखिए वक़्त-बेवक्त जिन्हें आ
दुष्यन्त 'बाबा'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
दोस्ती के नाम
दोस्ती के नाम
Dr. Rajeev Jain
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
कवि दीपक बवेजा
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
कवि रमेशराज
Loading...