Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2017 · 1 min read

कुण्डलियाँ

पैसे बिन संसार में , हुआ नहीं कुछ काम .
मोल लिया है बैर भी , देकर उनको दाम .
देकर उनको दाम , बनाया दुश्मन जानी .
नहीं किसी का दोष, हुई हमसे नादानी .
कह गुलिया कविराय , लोग बहुतेरे ऐसे .
साथ निभाते खूब , मिलें ना जब तक पैसे.
:::::::::::::::
बातें सुन अधिकार की , पूछे इक लाचार .
कब मिलेगा हमें यहाँ , रोटी का अधिकार.
रोटी का अधिकार , रहे ना कोई भूखा .
मिले सभी को कौर , भले हो रूखा सूखा .
कह गुलिया कविराय, हों ऐसी करामातें .
पूर्ण करे भगवान , सभी के मन की बातें .
:::::::::::::::::::
रैली , भाषण , घोषणा , नारे और प्रचार .
मत हथियाने के यही , हैं सारे हथियार .
हैं सारे हथियार , चुनाव में आजमाते .
बातों से ये तोड़ , गगन के तारे लाते .
कह गुलिया कविराय ,देखलो इनकी शैली
जुट जाती है भीड़ , जहाँ ये करते रैली
:::::::::::
रिश्वतखोरी का यहाँ , गरम हुआ बाजार .
झूठ दौड़ता देख लो , लेकर पाँव हजार .
लेकर पाँव हजार , करें रिश्वत की पूजा .
बिन रिश्वत के काम ,सूझे न इनको दूजा .
कह गुलिया कविराय , करें ये सीनाजोरी.
खुश हैं रिश्वतखोर , देखकर रिश्वतखोरी.

1 Like · 514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चरित्रार्थ होगा काल जब, निःशब्द रह तू जायेगा।
चरित्रार्थ होगा काल जब, निःशब्द रह तू जायेगा।
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-156💐
💐प्रेम कौतुक-156💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
उस जमाने को बीते जमाने हुए
उस जमाने को बीते जमाने हुए
Gouri tiwari
23/198. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/198. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"बयां"
Dr. Kishan tandon kranti
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
तुम तो ख़ामोशियां
तुम तो ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
कभी भी ग़म के अँधेरों  से तुम नहीं डरना
कभी भी ग़म के अँधेरों से तुम नहीं डरना
Dr Archana Gupta
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
लौटना पड़ा वहाँ से वापस
लौटना पड़ा वहाँ से वापस
gurudeenverma198
सवालिया जिंदगी
सवालिया जिंदगी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
छलावा
छलावा
Sushmita Singh
" मैं कांटा हूँ, तूं है गुलाब सा "
Aarti sirsat
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
shabina. Naaz
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
आदमी से आदमी..
आदमी से आदमी..
Vijay kumar Pandey
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
Kbhi Karib aake to dekho
Kbhi Karib aake to dekho
Sakshi Tripathi
■नया दौर, नई नस्ल■
■नया दौर, नई नस्ल■
*Author प्रणय प्रभात*
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
दोहा त्रयी. . . शीत
दोहा त्रयी. . . शीत
sushil sarna
Loading...