Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,

कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
उसके बाद भला कहा होश रहता है।

-सहल

Language: Hindi
315 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुज़ारिश आसमां से है
गुज़ारिश आसमां से है
Sangeeta Beniwal
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
Ravi Prakash
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
पूर्वार्थ
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
चैतन्य
चैतन्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
*Author प्रणय प्रभात*
हया
हया
sushil sarna
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
Manju sagar
आज
आज
Shyam Sundar Subramanian
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
एतमाद नहीं करते
एतमाद नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
Vishal babu (vishu)
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
I love to vanish like that shooting star.
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
भूला नहीं हूँ मैं अभी भी
भूला नहीं हूँ मैं अभी भी
gurudeenverma198
ये जो मुस्कराहट का,लिबास पहना है मैंने.
ये जो मुस्कराहट का,लिबास पहना है मैंने.
शेखर सिंह
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...