Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,

कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
कुछ लोग जो अच्छे लगे,सरहद के पार थे।

80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
"बेमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*आते हैं जग में सदा, जन्म-मृत्यु के मोड़ (कुंडलिया)*
*आते हैं जग में सदा, जन्म-मृत्यु के मोड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
Manisha Manjari
फल आयुष्य
फल आयुष्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3262.*पूर्णिका*
3262.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पायल
पायल
Kumud Srivastava
संवेदनापूर्ण जीवन हो जिनका 🌷
संवेदनापूर्ण जीवन हो जिनका 🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
धरती का बेटा
धरती का बेटा
Prakash Chandra
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ सोच लेना...
■ सोच लेना...
*Author प्रणय प्रभात*
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
खिचड़ी
खिचड़ी
Satish Srijan
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
sudhir kumar
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
कविता -
कविता - "करवा चौथ का उपहार"
Anand Sharma
चरचा गरम बा
चरचा गरम बा
Shekhar Chandra Mitra
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
Neeraj Agarwal
महाकाल महिमा
महाकाल महिमा
Neeraj Mishra " नीर "
विश्व कप-2023 फाइनल सुर्खियां
विश्व कप-2023 फाइनल सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
Loading...