Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!

जब कोई feelings का गला घोट जाता हैं
तब एक लड़का ख़ुद से रूठ जाता हैं
इक दिल्लगी को हसी खेल ना समझा करो
मेरी जान!!!!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!

✍️ The_dk_poetry

1 Like · 147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
Neeraj Agarwal
पिछले पन्ने 8
पिछले पन्ने 8
Paras Nath Jha
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
शहीद रामफल मंडल गाथा।
शहीद रामफल मंडल गाथा।
Acharya Rama Nand Mandal
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
"शुक्रगुजार करो"
Dr. Kishan tandon kranti
कई राज मेरे मन में कैद में है
कई राज मेरे मन में कैद में है
कवि दीपक बवेजा
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
हमको ख़ामोश कर दिया
हमको ख़ामोश कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
306.*पूर्णिका*
306.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
Sukoon
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
हल्ला बोल
हल्ला बोल
Shekhar Chandra Mitra
Loading...