Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

कुछ रह गया बाकी

कुछ तो हमेशा और,
हर दिन ही रहता है,
मैं तो ‘चुप’ हूँ कब से,
मगर एक ‘शोर’ रहता है…

बरस भी चुका हूँ पूरा,
कभी’बादल’बन के मैं,
जाने क्यूँ ये ‘मन’ में,
मगर ‘घनघोर’ रहता है…

लय गयी ‘किसलय’ गयी,
कंठ ‘शुष्क’ है शेष,
घोर ‘तिमिर’ सी चुप्पी है,
पर क्रौंच सा ‘क्रंदन’ रहता है…

अभी कुछ और ‘तपना’ है,
अभी कुछ और ‘बहना’ है,
अभी कुछ रह गया बाकी,
तभी ये ‘शोर’ रहता है!!!

© विवेक ‘वारिद’*

Language: Hindi
17 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
ज़ख़्मों पे वक़्त का
ज़ख़्मों पे वक़्त का
Dr fauzia Naseem shad
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
மறுபிறவியின் உண்மை
மறுபிறவியின் உண்மை
Shyam Sundar Subramanian
मुस्कुराहट खुशी की आहट होती है ,
मुस्कुराहट खुशी की आहट होती है ,
Rituraj shivem verma
" परदेशी पिया "
Pushpraj Anant
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
गृहणी का बुद्ध
गृहणी का बुद्ध
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
सच के साथ ही जीना सीखा सच के साथ ही मरना
सच के साथ ही जीना सीखा सच के साथ ही मरना
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जब दिल टूटता है
जब दिल टूटता है
VINOD CHAUHAN
तन प्रसन्न - व्यायाम से
तन प्रसन्न - व्यायाम से
Sanjay ' शून्य'
साया
साया
Harminder Kaur
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
बरसें प्रभुता-मेह...
बरसें प्रभुता-मेह...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मययस्सर रात है रोशन
मययस्सर रात है रोशन
कवि दीपक बवेजा
Loading...