Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2016 · 1 min read

कुछ यूँ मनाओ तुम इस बार दीवाली

बाहर रौशनी तो सभी करते हैं, जिसने है भीतर जोत जगा ली ।
उसी को मिला है ज्ञान प्रकाश , उसी की सच्चे अर्थों में दीवाली ।

इधर धुआं-उधर धुआं , फैलाकर हर ओर जहर की आंधी ।
देकर पर्यावरण को जहर का प्याला , हर पल कहते वाह जी -वाह जी ।

पल भर में ठा-ठा करके , खुद लेते हैं आनंद
पैसे को हवा में जलता देख , कहते मिल गया परमानन्द ।

अरे भाई इसकी बजाय बाँट ख़ुशी , किसी गरीब की झोली में ।
मिलेगा आनंद पल भर में , जैसे मिले हैं बरसाने की होली में ।

अरे देखो रे आने वाली हैं सर्दियां , रख तू अपने इस धन को बचा के ।
गिफ्ट शिफ्ट और पटाखों का छोड़ रे चक्कर , किसी गरीब की गरीब की झोली में कम्बल ही ला दे ।

ठान ले अगर हर आदमी , पटाखों और गिफ्टों का मोह त्यागने की ।
जगा जगाया फिर से हो गया भारत, फिर नहीं जरूरत किसी को जगाने की।

पटाखों की कुछ पल की आवाज , करती है शुद्ध हवा को बर्बाद ।
सोच कर हिलती है रूह लेखक की , तभी तो किया जगाने का आगाज ।

इस बार क्यों न सोचे कुछ नया , सही अर्थों में भरपूर बेशक पटाखों से खाली ।
एक आदमी एक कम्बल बांटे , कुछ यूँ मनाओ तुम इस बार दीवाली ।

Language: Hindi
1 Comment · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from कृष्ण मलिक अम्बाला
View all
You may also like:
है प्रशंसा पर जरूरी
है प्रशंसा पर जरूरी
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
Tulendra Yadav
सगीर गजल
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बुढ्ढे का सावन
बुढ्ढे का सावन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज के युग में कल की बात
आज के युग में कल की बात
Rituraj shivem verma
कर्तव्यपथ
कर्तव्यपथ
जगदीश शर्मा सहज
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Akash Yadav
राखी
राखी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पयसी
पयसी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
क्यों बीते कल की स्याही, आज के पन्नों पर छीटें उड़ाती है।
क्यों बीते कल की स्याही, आज के पन्नों पर छीटें उड़ाती है।
Manisha Manjari
भटका दिया जिंदगी ने मुझे
भटका दिया जिंदगी ने मुझे
Surinder blackpen
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
राम रावण युद्ध
राम रावण युद्ध
Kanchan verma
ये दिल।
ये दिल।
Taj Mohammad
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
अमीरों का देश
अमीरों का देश
Ram Babu Mandal
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
कवि दीपक बवेजा
मित्रता क्या है?
मित्रता क्या है?
Vandna Thakur
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
सावन में तुम आओ पिया.............
सावन में तुम आओ पिया.............
Awadhesh Kumar Singh
प्रायश्चित
प्रायश्चित
Shyam Sundar Subramanian
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
#बाल_दिवस_से_क्या_होगा?
#बाल_दिवस_से_क्या_होगा?
*Author प्रणय प्रभात*
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
💐प्रेम कौतुक-304💐
💐प्रेम कौतुक-304💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...