Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-370💐

कुछ भी बेनक़ाब नहीं हुआ है कुछ भी,
सब मेरे इश्क़ के आगे न टिकेगा कुछ भी,
यह तस्वीरें क्या मेरा रंग बदल सकेंगी,
सुनो,डालते रहो स्याह रंग पर कुछ भी।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
नौकरी
नौकरी
Aman Sinha
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
■नया दौर, नई नस्ल■
■नया दौर, नई नस्ल■
*प्रणय प्रभात*
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आदिशक्ति वन्दन
आदिशक्ति वन्दन
Mohan Pandey
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
manisha
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
पिता
पिता
sushil sarna
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
Surinder blackpen
युग प्रवर्तक नारी!
युग प्रवर्तक नारी!
कविता झा ‘गीत’
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
शेखर सिंह
शुरुआत
शुरुआत
इंजी. संजय श्रीवास्तव
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
*मुसीबत है फूफा जी का थानेदार बनना【हास्य-व्यंग्य 】*
*मुसीबत है फूफा जी का थानेदार बनना【हास्य-व्यंग्य 】*
Ravi Prakash
भावी युद्ध ...
भावी युद्ध ...
SURYA PRAKASH SHARMA
"तुम भी काश चले आते"
Dr. Kishan tandon kranti
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
2885.*पूर्णिका*
2885.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दर्द उसे होता है
दर्द उसे होता है
Harminder Kaur
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
सब्र
सब्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...