Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

कुछ पल अपने लिए

“कुछ पल अपने लिए”
बीत रही जिन्दगी सारी दूसरों की सोचकर,
अब तलक कभी जिया नहीं अपने लिए।
सोचता हूं जरा इस जिन्दगी को रोककर,
मैं भी निकालूं इसमें से कुछ पल अपने लिए।
भागदौड़ भरे जीवन में इतना मैं व्यस्त रहा,
खुलके कभी नहीं हंसा न अभी खुलके जी रहा।
जिम्मेदारियों के बोझ तले दबी हुई है जिन्दगी,
कर्तव्य निभाने की खातिर होती है बस बंदगी।
पूरा ध्यान रहता बस अच्छे जीवनयापन में,
कभी निकाला नहीं समय स्व अध्ययन में।
अब ऊब चुका हूं इससे ये दौर मुझे बदलना है,
खुद की खुशियों की राह की ओर मुझे चलना है।
स्व आनंद की राह पर अब अविचल मुझको बढ़ना है,
नित नई खुशियों व सफलता के नए आयाम गढ़ना है।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
DrLakshman Jha Parimal
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
इश्किया होली
इश्किया होली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
shabina. Naaz
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
dks.lhp
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
गुरु नानक देव जी --
गुरु नानक देव जी --
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम्हें आती नहीं क्या याद की  हिचकी..!
तुम्हें आती नहीं क्या याद की हिचकी..!
Ranjana Verma
*Dr Arun Kumar shastri*
*Dr Arun Kumar shastri*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मकड़जाल से धर्म के,
मकड़जाल से धर्म के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
■ समय की पुकार...
■ समय की पुकार...
*Author प्रणय प्रभात*
बादल
बादल
Shutisha Rajput
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
प्यार करो
प्यार करो
Shekhar Chandra Mitra
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
पूर्वार्थ
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
💐प्रेम कौतुक-189💐
💐प्रेम कौतुक-189💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
पिता
पिता
Kavi Devendra Sharma
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...