Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

कुछ दोहे…

३- कुछ दोहे…

पुष्प मधुर चुन भावमय, सजा रही दरबार।
मेरे घर भी अंबिके, आना अबकी बार।।१।।

जगत-जननी माँ अंबे, ले मेरी भी खैर।
मैं भी तेरा अंश हूँ, समझ न मुझको गैर।।२।।

बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
त्राहित्राहि जनता करे, हर सूं हाहाकार।।३।।

दुनिया एक कुटुंब है, रहें सभी मिल साथ।
स्वार्थ पूर्ण इस जंग से, आएगा क्या हाथ।।४।।

बड़ा असंगत आजकल, जीवन का व्यापार।
टोटा है मुस्कान का, आँसू की भरमार।।५।।

सुख की सब जेबें फटीं, भरा गमों से कोष।
कमी हमारे भाग्य की, नहीं किसी का दोष।।६।।

निंदा सुन भड़को नहीं, सहज करो स्वीकार।
निंदा कल्मष नाशिनी, हर ले सकल विकार।।७।।

नस-नस में रस पूरता, आया फागुन मास।
रिसते रिश्तों में चलो, भर दें नयी उजास।।८।।

मिटते नहीं मिटाए, लिखे करम के लेख।
मस्तक पर सबके खिंची, अमिट भाग्य की रेख।।९।।

रखते कुल की लाज जो,कहते उन्हें कुलीन।
उकसाएँ कितने मगर, बने रहें शालीन।।१०।।

पकड़ न धीमी हो कहीं, थामे रखना हाथ।
रेले में इस भीड़ के, छूट न जाए साथ।।११।।

© डॉ.सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)
साझा संग्रह ‘प्रभांजलि’ में प्रकाशित

Language: Hindi
2 Likes · 116 Views

Books from डॉ.सीमा अग्रवाल

You may also like:
रामपुर महोत्सव प्रतीक चिन्ह (लोगो) प्रतियोगिता में मेरा लोगो पुरस्कृत हुआ // हार
रामपुर महोत्सव प्रतीक चिन्ह (लोगो) प्रतियोगिता में मेरा लोगो पुरस्कृत हुआ // हार
Ravi Prakash
जलियांवाला बाग,
जलियांवाला बाग,
अनूप अम्बर
अंधेरों रात और चांद का दीदार
अंधेरों रात और चांद का दीदार
Charu Mitra
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
सत्य कुमार प्रेमी
दादा की मूँछ
दादा की मूँछ
Dr Nisha nandini Bhartiya
!!दर्पण!!
!!दर्पण!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
'अशांत' शेखर
■ कृतज्ञ राष्ट्र...
■ कृतज्ञ राष्ट्र...
*Author प्रणय प्रभात*
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
Dr Archana Gupta
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
वीरगति सैनिक
वीरगति सैनिक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
Shakil Alam
तुम भोर हो!
तुम भोर हो!
Ranjana Verma
माँ
माँ
Kavita Chouhan
मेरी बेटी मेरा अभिमान
मेरी बेटी मेरा अभिमान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
कवि दीपक बवेजा
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] भाग–7
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] भाग–7
Pravesh Shinde
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Ram Babu Mandal
"ये दृश्य बदल जाएगा.."
MSW Sunil SainiCENA
शिक्षा एवं धर्म
शिक्षा एवं धर्म
Abhineet Mittal
आज की प्रस्तुति: भाग 4
आज की प्रस्तुति: भाग 4
Rajeev Dutta
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
बात है तो क्या बात है,
बात है तो क्या बात है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कंक्रीट के गुलशन में
कंक्रीट के गुलशन में
Satish Srijan
सुभाष चंद्र बोस जयंती
सुभाष चंद्र बोस जयंती
Ram Krishan Rastogi
Loading...