Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।

कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
बात – बात पर रोती हो तुम, आदत बचपन जैसी है।
स्वीकारो विधि का निर्णय, मत अश्रु बहाओ व्यर्थ प्रिये
समझो अपनी किस्मत भी उस ,”गुंजा – चंदन” जैसी है।

– अभिनव अदम्य

233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
मेरी चाहत
मेरी चाहत
umesh mehra
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
Shweta Soni
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
करती गहरे वार
करती गहरे वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,
गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,
Ranjeet kumar patre
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
कवि रमेशराज
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
"सुधार"
Dr. Kishan tandon kranti
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
There are instances that people will instantly turn their ba
There are instances that people will instantly turn their ba
पूर्वार्थ
गुलामी छोड़ दअ
गुलामी छोड़ दअ
Shekhar Chandra Mitra
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
shabina. Naaz
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...