Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2024 · 1 min read

कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे

कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
बेख़याली का भी ख़याल रहे

42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
कारगिल दिवस पर
कारगिल दिवस पर
Harminder Kaur
Happy Father Day, Miss you Papa
Happy Father Day, Miss you Papa
संजय कुमार संजू
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
"मां की ममता"
Pushpraj Anant
Even If I Ever Died
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
ऐसा एक भारत बनाएं
ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
हर राह सफर की।
हर राह सफर की।
Taj Mohammad
Not only doctors but also cheater opens eyes.
Not only doctors but also cheater opens eyes.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*चाहता दो वक्त रोटी ,बैठ घर पर खा सकूँ 【हिंदी गजल/ गीतिका】*
*चाहता दो वक्त रोटी ,बैठ घर पर खा सकूँ 【हिंदी गजल/ गीतिका】*
Ravi Prakash
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
मैं तो महज संघर्ष हूँ
मैं तो महज संघर्ष हूँ
VINOD CHAUHAN
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
इंसानियत का एहसास
इंसानियत का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रेम का चौथा नेत्र
प्रेम का चौथा नेत्र
Awadhesh Singh
समुद्र इसलिए खारा क्योंकि वो हमेशा लहराता रहता है यदि वह शां
समुद्र इसलिए खारा क्योंकि वो हमेशा लहराता रहता है यदि वह शां
Rj Anand Prajapati
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
Pratibha Pandey
समसामायिक दोहे
समसामायिक दोहे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शीर्षक - संगीत
शीर्षक - संगीत
Neeraj Agarwal
स्वार्थी मनुष्य (लंबी कविता)
स्वार्थी मनुष्य (लंबी कविता)
SURYA PRAKASH SHARMA
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
बात है तो क्या बात है,
बात है तो क्या बात है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: ओं स्वर रदीफ़ - में
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: ओं स्वर रदीफ़ - में
Neelam Sharma
Kavita
Kavita
shahab uddin shah kannauji
बीजारोपण
बीजारोपण
आर एस आघात
न दिया धोखा न किया कपट,
न दिया धोखा न किया कपट,
Satish Srijan
Loading...