Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!

कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
मँझधार में है नैया, दूर कहीं अपना है वतन !!
जीवन नदिया में, तलीफों की लहरें हैं!
हर रोज़ मिली जो पीडाओ की नहरें है!!
क्या सोच के निकला था भूल गया अपनी वो लगन?
कुछ तेज हवाएं….!!
असफलताओं की भंवरों से, जाने क्यों डरता हूं?
आशाओं की पतवारों से, फिर आगे बढ़ता हूं!
जो पार निकल बैठे, उनसे अब कैसी हो जलन?
कुछ तेज हवाएं हैं…!!
असफ़लताओं की भँवरों में, लाखों ने जान गँवाई!
पार पहुचने वालों ने,केवल अपनी धाक जमाई!!
मंज़िल की ख़ुशी में भूल गए ,अपनी वो थकन!
कुछ तेज़ हवाए है, कुछ बर्फानी गलन!!

मौलिक रचना सर्वाधिकार सुरछित
बोधिसत्व कस्तूरिया,एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202,नीरव निकुज,फेस-2 सिकंदरा,आगरा-282007

Language: Hindi
1 Like · 257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
"खुश रहने के तरीके"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं स्त्री हूं भारत की।
मैं स्त्री हूं भारत की।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2725.*पूर्णिका*
2725.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सैनिक का सावन
सैनिक का सावन
Dr.Pratibha Prakash
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
Swami Ganganiya
सभी को सभी अपनी तरह लगते है
सभी को सभी अपनी तरह लगते है
Shriyansh Gupta
*आई गंगा स्वर्ग से, उतर हिमालय धाम (कुंडलिया)*
*आई गंगा स्वर्ग से, उतर हिमालय धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यूं जी भर जी ना पाओगे, ना ही कभी मर पाओगे,
यूं जी भर जी ना पाओगे, ना ही कभी मर पाओगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
किस्सा कुर्सी का - राज करने का
किस्सा कुर्सी का - राज करने का "राज"
Atul "Krishn"
जिनके घर खुद घास फूंस के बने हो वो दूसरे के घर में माचिस नही
जिनके घर खुद घास फूंस के बने हो वो दूसरे के घर में माचिस नही
Rj Anand Prajapati
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
कभी कभी आईना भी,
कभी कभी आईना भी,
शेखर सिंह
🙅अपडेट🙅
🙅अपडेट🙅
*प्रणय प्रभात*
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मोहब्बत से कह कर तो देखो
मोहब्बत से कह कर तो देखो
Surinder blackpen
कविता -
कविता - " रक्षाबंधन इसको कहता ज़माना है "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
समय के हाथ पर ...
समय के हाथ पर ...
sushil sarna
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
यादें
यादें
Tarkeshwari 'sudhi'
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
सुबह की नमस्ते
सुबह की नमस्ते
Neeraj Agarwal
Loading...