Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।

कर्त्तव्य रिश्ते का कुछ इस कदर निभाना,
कि प्रकाश के उस दरिया को, लाँघ कर चले आना।
सरल नहीं है, इस अविश्वनीय दूरी को मिटाना,
पर त्याग आऊंगी ये संसार मैं, थोड़ा तुम भी ईश्वर से लड़ आना।
असंभव हीं तो है, बहुमूल्य स्मृतियों को भूलना,
तो कुछ बातें मैं ले आउंगी, कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
विखंडित हुई लहरों का भी, सागर हीं है अंतिम ठिकाना,
बनकर तारा टूटूँगी मैं भी, क्षितिज बन तुम बाहें फैलाना।
फैले इस अन्धकार को, भोर से कभी तो होगा मिलाना,
तो परछाईं बन मैं आउंगी, थोड़ा सा सूरज तुम ले आना।
किस्मत ने भले हीं लिख दिया, रूह और काया के विरह का फ़साना,
पर उम्मीद की मोतियाँ मैं लाऊंगी, धागे जन्मों के तुम ले आना।
निरंतर यात्रा से समय थका, उचित है अब धैर्य का टूट जाना,
किस्तों में जी लिया जीवन ये, अब तो मृत्यु में मुझे सम्पूर्ण कर जाना।

222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
#तेजा_दशमी_की_बधाई
#तेजा_दशमी_की_बधाई
*प्रणय प्रभात*
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
मां महागौरी
मां महागौरी
Mukesh Kumar Sonkar
सत्य तत्व है जीवन का खोज
सत्य तत्व है जीवन का खोज
Buddha Prakash
संयुक्त परिवार
संयुक्त परिवार
विजय कुमार अग्रवाल
*भूल कर इसकी मीठी बातों में मत आना*
*भूल कर इसकी मीठी बातों में मत आना*
sudhir kumar
बेअसर
बेअसर
SHAMA PARVEEN
खत
खत
Punam Pande
*गुरु जी की मक्खनबाजी (हास्य व्यंग्य)*
*गुरु जी की मक्खनबाजी (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
भारत का ’मुख्यधारा’ का मीडिया मूलतः मनुऔलादी है।
भारत का ’मुख्यधारा’ का मीडिया मूलतः मनुऔलादी है।
Dr MusafiR BaithA
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
बासी रोटी...... एक सच
बासी रोटी...... एक सच
Neeraj Agarwal
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
Pramila sultan
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
O YOUNG !
O YOUNG !
SURYA PRAKASH SHARMA
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
पूर्वार्थ
बेबसी!
बेबसी!
कविता झा ‘गीत’
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र"
Dr Meenu Poonia
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
औरत की अभिलाषा
औरत की अभिलाषा
Rachana
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
"संयम की रस्सी"
Dr. Kishan tandon kranti
अब आदमी के जाने कितने रंग हो गए।
अब आदमी के जाने कितने रंग हो गए।
सत्य कुमार प्रेमी
!............!
!............!
शेखर सिंह
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
धूल में नहाये लोग
धूल में नहाये लोग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...