Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-377💐

कुछ कहो तो दिन रात लिखूँ,
सुनो तो सही हर बात लिखूँ,
मुझसे बे-एतिबार मत कहना,
तुम्हारे इश्क़ की क़िताब लिखूँ।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
78 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
कुछ बात कुछ ख्वाब रहने दे
कुछ बात कुछ ख्वाब रहने दे
डॉ. दीपक मेवाती
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
shabina. Naaz
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
DrLakshman Jha Parimal
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Sidhartha Mishra
ज़ख्म शायरी
ज़ख्म शायरी
मनोज कर्ण
पत्नी
पत्नी
Acharya Rama Nand Mandal
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
Sukun usme kaha jisme teri jism ko paya hai
Sukun usme kaha jisme teri jism ko paya hai
Sakshi Tripathi
जिंदगी के कोरे कागज पर कलम की नोक ज्यादा तेज है...
जिंदगी के कोरे कागज पर कलम की नोक ज्यादा तेज है...
कवि दीपक बवेजा
ज़िन्दगी और प्रेम की,
ज़िन्दगी और प्रेम की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay
दुःख
दुःख
Dr. Kishan tandon kranti
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
Vijay kannauje
वक़्त ने करवट क्या बदली...!
वक़्त ने करवट क्या बदली...!
Dr. Pratibha Mahi
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
प्रेम निभाना
प्रेम निभाना
लक्ष्मी सिंह
" हैं अगर इंसान तो
*Author प्रणय प्रभात*
सूखा शजर
सूखा शजर
Surinder blackpen
!!दर्पण!!
!!दर्पण!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
नेता (पाँच दोहे)
नेता (पाँच दोहे)
Ravi Prakash
मेरे प्रिय कलाम
मेरे प्रिय कलाम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हम दोनों के दरमियां ,
हम दोनों के दरमियां ,
श्याम सिंह बिष्ट
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
मार नहीं, प्यार करो
मार नहीं, प्यार करो
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-525💐
💐प्रेम कौतुक-525💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो गयी, दरार पड़ी दीवारों की ईंटें भी चोरी हो गयीं।
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो गयी, दरार पड़ी दीवारों की ईंटें भी चोरी हो गयीं।
Manisha Manjari
छद्म शत्रु
छद्म शत्रु
Arti Bhadauria
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
Satish Srijan
Loading...