Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Oct 2016 · 1 min read

कुंवारी मां

इक लड़की थी भोली भाली सी,
सलोनी, सांवली छवि वाली सी,
इक मधुप पुष्प पर बैठ गया,
और दंश प्रेम का भेद गया,
इक ओर प्रेम निश्छल पावन,
इक ओर वस्तु मनबहलावन,
दिन रैन बीते पल वो आया,
उदर बीज प्रेम का मुस्काया,
भीरू तुरंत फिर पलट गया,
कौरा समाज का अटक गया,
पर निर्भया तनिक न घबराई,
ममता में मंद मंद मुस्काई,
वो डट गयी सभी से लड़ने को,
चल पड़ी अबोध संग बढ़ने को,
सिकुड़ी कब उसकी पेशानी,
हार कहां फिर उसने मानी,
दुनिया को कल्कि, उसको आँख का तारा,
ज्यों प्यासे को पानी, त्यों सुत मां को प्यारा,
उस अबोध के लिये कब कलंक शब्द भाता,
मां से पूछो उसको वो प्रणय गौरव यश गाथा |

Language: Hindi
Tag: कविता
385 Views
You may also like:
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्यार
Satish Arya 6800
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
रहना सम्भलकर यारों
gurudeenverma198
नारियल
Buddha Prakash
“ WHAT YOUR PARENTS THINK ABOUT YOU ? “
DrLakshman Jha Parimal
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
*अंतिम सफर पर हाथ रीता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रेम
Rashmi Sanjay
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
गुलामगिरी
Shekhar Chandra Mitra
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️बेपनाह✍️
'अशांत' शेखर
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
ऋषि पंचमी कब है? पूजा करने की विधि एवं मुहूर्त...
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
"बारिश संग बदरिया"
Dr Meenu Poonia
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
मंजिल
Kanchan Khanna
तेरी रहबरी जहां में अच्छी लगे।
Taj Mohammad
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
साक्षात्कार:- कृषि क्षेत्र के हित के लिए "आईएएस" के तर्ज...
Deepak Kumar Tyagi
*नीम का पेड़* कहानी - लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा
radhakishan Mundhra
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
सजनाँ बिदेशिया निठूर निर्मोहिया, अइले ना सजना बिदेशिया।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कहीं मर न जाए
Seema 'Tu hai na'
भक्ता (#लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हिंदी दोहा- बचपन
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...