Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2022 · 1 min read

कि सब ठीक हो जायेगा

तेरा त्याग ही, तेरा मोल चुकायेगा
तेरा बहते आसू, शुद्धि स्नान बन जायेगा
की सब ठीक हो जायेगा

तेरी आखों की उदासी ये भी भर जायेगा
तेरा आज का सुनापन, तेरे कल का कौतुहल लायेगा
कि सब ठीक हो जायेगा

की जो तू गिनती है, सुइयां घड़ी की आज
की कल तेरे से ही हर समय हो जायेगा
कि सब ठीक हो जायेगा

तू बस आज आंधियारो के आगे, जगी रहना
कल ये तेरा काजल निखार बन जायेगा
कि तब सब ठीक हो जायेगा

जो तू उठाती हो खुद के होने पे सवाल
कल तेरा अस्तित्व ओरो का भी पहचान बन जायेगा
हां, एक रोज सब ठीक हो जायेगा

Language: Hindi
1 Like · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल (कुंडलिया)*
*जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
एक सच ......
एक सच ......
sushil sarna
*यादें कोमल ह्रदय को चीरती*
*यादें कोमल ह्रदय को चीरती*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
प्रेम हैं अनन्त उनमें
प्रेम हैं अनन्त उनमें
The_dk_poetry
.
.
Shwet Kumar Sinha
यूं तो लाखों बहाने हैं तुझसे दूर जाने के,
यूं तो लाखों बहाने हैं तुझसे दूर जाने के,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
मौसम
मौसम
Monika Verma
तुम्हारे साथ,
तुम्हारे साथ,
हिमांशु Kulshrestha
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
"निक्कू खरगोश"
Dr Meenu Poonia
"" *महात्मा गाँधी* ""
सुनीलानंद महंत
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बड़े बुजुर्गों ,माता पिता का सम्मान ,
बड़े बुजुर्गों ,माता पिता का सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कागज को तलवार बनाना फनकारों ने छोड़ दिया है ।
कागज को तलवार बनाना फनकारों ने छोड़ दिया है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
शेखर सिंह
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
आज का महाभारत 2
आज का महाभारत 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बच्चों ने वसीयत देखी।
बच्चों ने वसीयत देखी।
सत्य कुमार प्रेमी
"मित्रों से जुड़ना "
DrLakshman Jha Parimal
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...