Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2023 · 1 min read

किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।

किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस अजनबी राह का किस्सा बनाना चाहते हो।।
चला हूं जिंदगीभर पांव जमीं पर रखकर।
खामखां घुड़दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।।

जय सियाराम

1 Like · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहुत हैं!
बहुत हैं!
Srishty Bansal
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
23/71.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/71.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
कैसे आये हिज्र में, दिल को भला करार ।
कैसे आये हिज्र में, दिल को भला करार ।
sushil sarna
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
डॉक्टर रागिनी
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
Shyam Sundar Subramanian
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
नेताम आर सी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुक्तक ....
मुक्तक ....
Neelofar Khan
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
ruby kumari
प्रकाश पर्व
प्रकाश पर्व
Shashi kala vyas
नील गगन
नील गगन
नवीन जोशी 'नवल'
"सुपारी"
Dr. Kishan tandon kranti
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
पूर्वार्थ
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
याद रक्खा नहीं भुलाया है
याद रक्खा नहीं भुलाया है
Dr fauzia Naseem shad
ऐसा कभी नही होगा
ऐसा कभी नही होगा
gurudeenverma198
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
गुलाब
गुलाब
Prof Neelam Sangwan
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
भगवत गीता जयंती
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
Loading...