Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

“किस किस को वोट दूं।”

“किस किस को वोट दूं।”

आया दौर चुनावों का, खड़े हुए उम्मीदवार।
कोई है, पढ़ा लिखा तो, कोई अनपढ़ गंवार।
कोई पिलाता दारू,
कोई जाता द्वार द्वार।
पता नहीं कौन हारे, किसका हो सपना साकार।
किसी ने बांटे नुक्ती लड्डू,
किसी ने बांटे रसगुल्ले।
किसी ने कुछ न बांटा, सुनाये खूब हंसगुल्ले।
इलेक्शन आए प्रधानी के,
शराबियों की आ गई मौज।
जो ना पीता बूझ नहीं, पीने वाले को पिलाते रोज।
छोटा सा एक गांव है,
कई हैं, उम्मीदवार।
किसको दूं मैं वोट, किसको दूं में चोट।
कोई पैरों में पड़ता,
कोई हाथों को मलता।
कोई छोटे को सलाम करें,
कोई रुपयों की बरसात करें।
चापलूसी करें, चरणों पड़े,
एक माह तक सब कुछ करें।
पड़ोसी भी कम नहीं,
एक दूसरे के कान भरें।
ऐसा भी अब क्या करें, वोट के लिए हां करें।
जीत जाए गर कोई इनमें,
पीछे पांच साल फिरे।
दूं भी तो किसे दूं वोट,
किस किस की खोट करूं।
किस-किस के नोट धरूं,
किस-किस से ओट करूं।
किसने क्या बांटा, क्या किया?
किस किसको नोट करूं।
दुष्यन्त कुमार अपनी इस कृति को,
कितना और शार्ट करूं।।

Language: Hindi
5 Likes · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
ज़ुल्मत की रात
ज़ुल्मत की रात
Shekhar Chandra Mitra
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
दौड़ी जाती जिंदगी,
दौड़ी जाती जिंदगी,
sushil sarna
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गरमी लाई छिपकली, छत पर दीखी आज (कुंडलिया)
गरमी लाई छिपकली, छत पर दीखी आज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
यादों की किताब पर खिताब
यादों की किताब पर खिताब
Mahender Singh
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ ज़रूरत...
■ ज़रूरत...
*Author प्रणय प्रभात*
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
मेरे बुद्ध महान !
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
"आखिरी इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
यह जनता है ,सब जानती है
यह जनता है ,सब जानती है
Bodhisatva kastooriya
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
नाम परिवर्तन
नाम परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बस्ता
बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
जीवन एक संघर्ष
जीवन एक संघर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2386.पूर्णिका
2386.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Hello
Hello
Yash mehra
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
Loading...