Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2016 · 1 min read

किस्से पुराने याद आये है।

आज किस्से फिर पुराने कुछ याद आये है,
कुछ तज़ुर्बे है जो फिर लिखाये गए हैं

घर की दीवारों को शीशे में बदला क्या मैंने,
हर एक हाथ से ही पतथर उठाये गए हैं।

हकीकत तो वही थी पर दिल ने ना मानी,
झूठ के पैवंद यहाँ सिलवाये गए हैं।

समझ सकते तो नज़रो से ही समझ जाते,
क्यों ये ज़ज़्बात डायरी में लिखाये गए हैं।

रखा है संभाले वो कागज़ आज तलक,
जिसपे दस्तखत ज़मानत के एवज़ कराये गए हैं।

खतायें तो दोनों तरफ बराबर ही रही थी,
फिर क्यों हर बार हम ही समझाये गए हैं।

तमन्नाओ की कब्र तो पुरानी ही थी,
कुछ नए ख़्वाब भी इसने दफनाए गए हैं

किसी को भी न छोड़ा हाय किस्मत तूने,
तेरे इशारे पर सारे ही नचाये गए हैं…।

254 Views
You may also like:
"लाड़ली रानू"
Dr Meenu Poonia
फूल है और मेरा चेहरा है
Dr fauzia Naseem shad
ये दिल।
Taj Mohammad
फना
shabina. Naaz
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#जगन्नाथपुरी_यात्रा
Ravi Prakash
मुक्ती
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
माँ शैलपुत्री
Vandana Namdev
*** " मन बावरा है...!!! " ***
VEDANTA PATEL
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
आजादी की कभी शाम ना हम होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
" कुरीतियों का दहन ही विजयादशमी की सार्थकता "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आ अब लौट चले
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️एक ख़ता✍️
'अशांत' शेखर
दर्द
Buddha Prakash
💐💐किं विचारणीय:?💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारतीय रेल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वसंत बहार
Shyam Sundar Subramanian
तेरे नाम यह पैगा़म है सगी़र की ग़ज़ल।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
आजादी में नहीं करें हम
gurudeenverma198
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
हरित वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
एक साहसी पत्रकार
Shekhar Chandra Mitra
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
■ प्रेरक कविता / आस का पंछी
*Author प्रणय प्रभात*
हे माधव हे गोविन्द
Pooja Singh
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
Loading...