Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 20, 2016 · 1 min read

किस्से पुराने याद आये है।

आज किस्से फिर पुराने कुछ याद आये है,
कुछ तज़ुर्बे है जो फिर लिखाये गए हैं

घर की दीवारों को शीशे में बदला क्या मैंने,
हर एक हाथ से ही पतथर उठाये गए हैं।

हकीकत तो वही थी पर दिल ने ना मानी,
झूठ के पैवंद यहाँ सिलवाये गए हैं।

समझ सकते तो नज़रो से ही समझ जाते,
क्यों ये ज़ज़्बात डायरी में लिखाये गए हैं।

रखा है संभाले वो कागज़ आज तलक,
जिसपे दस्तखत ज़मानत के एवज़ कराये गए हैं।

खतायें तो दोनों तरफ बराबर ही रही थी,
फिर क्यों हर बार हम ही समझाये गए हैं।

तमन्नाओ की कब्र तो पुरानी ही थी,
कुछ नए ख़्वाब भी इसने दफनाए गए हैं

किसी को भी न छोड़ा हाय किस्मत तूने,
तेरे इशारे पर सारे ही नचाये गए हैं…।

201 Views
You may also like:
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
पहचान
Anamika Singh
पावन पवित्र धाम....
Dr. Alpa H. Amin
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
हम भी हैं महफ़िल में।
Taj Mohammad
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
"अशांत" शेखर
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम सब एक है।
Anamika Singh
💐💐परमात्मा इन्द्रियादिभि: परेय💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
poem
पंकज ललितपुर
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
Loading...