Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2017 · 1 min read

~~किस्मत के खेल निराले~~

तेरी दुनिया में हैं,
किस्मत के खेल निराले
कोई किसी चीज को
तरस रहा कोई किसी
से हो रहा है परेशान

किसी को दिया इतना कि
वो समेट नहीं पा
रहा, किसी को
इच्छा इतनी कि वो
उस को नहीं है पा रहा

किसी को महलों में
भी सकूं नहीं मिल रहा
कोई झोपड़ी में हर दिन
गुजार रहा

जीवन में तू किस
को क्या सौंप दे
यह लीला तो तेरी ही है
मैने तो देखे चाहे
किसी के पास कितना भी क्यूं न हो
तेरे आगे सब भिखारी ही हैं

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
1 Like · 741 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
नारी के चरित्र पर
नारी के चरित्र पर
Dr fauzia Naseem shad
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2686.*पूर्णिका*
2686.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
నా గ్రామం..
నా గ్రామం..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-464💐
💐प्रेम कौतुक-464💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
'अशांत' शेखर
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
"राजनीति" विज्ञान नहीं, सिर्फ़ एक कला।।
*Author प्रणय प्रभात*
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
छपास रोग की खुजलम खुजलई
छपास रोग की खुजलम खुजलई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
Er. Sanjay Shrivastava
कठिनाई  को पार करते,
कठिनाई को पार करते,
manisha
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
सेवा
सेवा
ओंकार मिश्र
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"माटी से मित्रता"
Dr. Kishan tandon kranti
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
भरत नाम अधिकृत भारत !
भरत नाम अधिकृत भारत !
Neelam Sharma
Loading...