Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

किस्मत का वह धनी सिर्फ है,जिसको टिकट मिला है (हास्य मुक्तक )

किस्मत का वह धनी सिर्फ है,जिसको टिकट मिला है (हास्य मुक्तक )
=======================
सदा सुखी है व्यक्ति, पड़ोसी अच्छा निकट मिला है
खुश होता है व्यक्ति, गड़ा धन जिसको विकट मिला
है
माँगी थीं चुनाव में दल से, नौ लोगों ने टिकटें
किस्मत का वह धनी सिर्फ है, जिसको टिकट
मिला है
=========================
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
अधूरी प्रीत से....
अधूरी प्रीत से....
sushil sarna
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
शेखर सिंह
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
प्रकृति सुर और संगीत
प्रकृति सुर और संगीत
Ritu Asooja
" यादों की शमा"
Pushpraj Anant
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
इश्क में ज़िंदगी
इश्क में ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
निर्लोभी राम(कुंडलिया)
निर्लोभी राम(कुंडलिया)
Ravi Prakash
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
चल पनघट की ओर सखी।
चल पनघट की ओर सखी।
Anil Mishra Prahari
■ कहानी घर-घर की।
■ कहानी घर-घर की।
*Author प्रणय प्रभात*
"Always and Forever."
Manisha Manjari
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
3053.*पूर्णिका*
3053.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#drarunkumarshastei
#drarunkumarshastei
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
हाशिए के लोग
हाशिए के लोग
Shekhar Chandra Mitra
"बेहतर यही"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...