Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

किसी को भूल कर जीना

वाकिफ़ है ये दिल इससे कहां हैरान होता है ।
किसी को भूल कर जीना कहां आसान होता है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
15 Likes · 284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
DrLakshman Jha Parimal
आइये झांकते हैं कुछ अतीत में
आइये झांकते हैं कुछ अतीत में
Atul "Krishn"
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
"खासियत"
Dr. Kishan tandon kranti
इस नये दौर में
इस नये दौर में
Surinder blackpen
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
संसार में मनुष्य ही एक मात्र,
संसार में मनुष्य ही एक मात्र,
नेताम आर सी
जख्म पाने के लिए ---------
जख्म पाने के लिए ---------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
तुम तो हो जाते हो नाराज
तुम तो हो जाते हो नाराज
gurudeenverma198
मातु शारदे करो कल्याण....
मातु शारदे करो कल्याण....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिसके हर खेल निराले हैं
जिसके हर खेल निराले हैं
Monika Arora
अब कौन सा रंग बचा साथी
अब कौन सा रंग बचा साथी
Dilip Kumar
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
दिल से कह देना कभी किसी और की
दिल से कह देना कभी किसी और की
शेखर सिंह
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
Umender kumar
3473🌷 *पूर्णिका* 🌷
3473🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"Recovery isn’t perfect. it can be thinking you’re healed fo
पूर्वार्थ
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...