Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2023 · 1 min read

किसी के दिल में चाह तो ,

किसी के दिल में चाह तो ,
कहीं किरकिरी बनकर आंख में रहेंगे
कुछ दोस्त तो कुछ दुश्मन भी हमारी फिराक में रहेंगे ,
हम भी वो शख्शियत हैं कि भूलना है नामुमकिन ,
अगर मर भी गए तो लोगों के दिमाग में रहेंगे ।

मंजू सागर
गाजियाबाद

1 Like · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2549.पूर्णिका
2549.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
Ms.Ankit Halke jha
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
भजन - माॅं नर्मदा का
भजन - माॅं नर्मदा का
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
..........अकेला ही.......
..........अकेला ही.......
Naushaba Suriya
ख़ामोशी
ख़ामोशी
कवि अनिल कुमार पँचोली
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
Ravi Prakash
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
DrLakshman Jha Parimal
एहसास.....
एहसास.....
Harminder Kaur
मौसम  सुंदर   पावन  है, इस सावन का अब क्या कहना।
मौसम सुंदर पावन है, इस सावन का अब क्या कहना।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
कवि रमेशराज
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सच्ची सहेली - कहानी
सच्ची सहेली - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बरस  पाँच  सौ  तक रखी,
बरस पाँच सौ तक रखी,
Neelam Sharma
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
पूर्वार्थ
होगी तुमको बहुत मुश्किल
होगी तुमको बहुत मुश्किल
gurudeenverma198
Hello
Hello
Yash mehra
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...