Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2020 · 1 min read

किसान

******किसान******
******************

किसान की यही कहानी
नई नहीं है बहुत पुरानी

आरम्भ से यही है कथा
दयनीय अन्नदाता व्यथा

कभी साहूकारों ने मारा
कभी आढ़तियों ने मारा

कभी मौसम मारे मार
कभी सरकारों की मार

कर्जे में हुआ है कर्जदार
पल पल मरता मददगार

देशभर का रहे पेट भरता
खुद भूखा रहता है मरता

बंजर भूमि बना उपजाऊ
तन धन बना कर बिकाऊ

श्रम अथक पर वहीं मंजर
तन हो जाए अस्थिपिंजर

हाड मांस का वो पुतला
समय आगे रहे है झुकता

मेहनत करता है बेशुमार
रहता फिर भी है लाचार

दुनिया का वो अन्नदाता
निज को अन्न नहीं भाता

कभी सूखा तो कभी बाढ
होती खड़ी फसल बर्बाद

अन्न धान्य खेत में सड़ता
खरीददार नहीं है मिलता

मिट्टी में सोना है उपजाए
रोना धोना नसीब में पाए

मिट्टी में मिट्टी बन जाता
हाथ खाली ही रह जाता

अन्न के भरता वो अंबार
निज खाली रहते भंडार

चाहे सर्द कितनी हो रात
खेत में कटता दिन रात

जेठ महीने में रहे तपता
रेट फसल का ना लगता

बेटे या बेटी की हो शादी
हारी – बीमारी आ जाती

कर्जे की गठरी है उठाए
छोटे मोटे खर्चे निपटाए

कोई विपदा आए भारी
स्वप्नों पर फिरतीं आरी

बचपन या फिर जवानी
बुढ़ापा अंतिम निशानी

दुखी जीवन बसर करता
हर पल रहे घुटता मरता

बैंक में लिमिट ना भरती
बैंकों के अधीन है धरती

सुखविन्द्र का है निवेदन
कृषक सूर्योदय आवेदन
******************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Language: Hindi
1 Like · 396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*Eternal Puzzle*
*Eternal Puzzle*
Poonam Matia
#दोहा (आस्था)
#दोहा (आस्था)
*प्रणय प्रभात*
"संगठन परिवार है" एक जुमला या झूठ है। संगठन परिवार कभी नहीं
Sanjay ' शून्य'
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुझे नेकियों के मुँह से
तुझे नेकियों के मुँह से
Shweta Soni
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
Phool gufran
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
रसों में रस बनारस है !
रसों में रस बनारस है !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मन मुकुर
मन मुकुर
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कविवर शिव कुमार चंदन
कविवर शिव कुमार चंदन
Ravi Prakash
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
रामदीन की शादी
रामदीन की शादी
Satish Srijan
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
3009.*पूर्णिका*
3009.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
VEDANTA PATEL
Loading...