Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

किसने सोचा था कि

रेलवे से लेकर एअरपोर्ट तक
सब कुछ बिक जाएगा!
अपने देश में बेरोज़गारी का
रिकार्ड टूट जाएगा!!
आख़िर किसने सोचा था कि
ऐसा दिन भी आएगा!
किसान से लेकर विद्यार्थी तक
हर कोई पिट जाएगा!!
#जातीय #लाठीचार्ज #अपराध #दलित
#उत्पीड़न #महंगाई #दमन #अत्याचार
#आदिवासी #Corruption #निजीकरण

Language: Hindi
1 Like · 118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमें क़िस्मत ने
हमें क़िस्मत ने
Dr fauzia Naseem shad
सत्य खोज लिया है जब
सत्य खोज लिया है जब
Buddha Prakash
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
manjula chauhan
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Armano me sajaya rakha jisse,
Armano me sajaya rakha jisse,
Sakshi Tripathi
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
अधरों ने की  दिल्लगी, अधरों  से  कल  रात ।
अधरों ने की दिल्लगी, अधरों से कल रात ।
sushil sarna
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
VINOD CHAUHAN
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
*मंगलकामनाऐं*
*मंगलकामनाऐं*
*Author प्रणय प्रभात*
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
दो रंगों में दिखती दुनिया
दो रंगों में दिखती दुनिया
कवि दीपक बवेजा
तारीख
तारीख
Dr. Seema Varma
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
अनुभूति
अनुभूति
Shweta Soni
*सरस रामकथा*
*सरस रामकथा*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
तोड़कर दिल को मेरे इश्क़ के बाजारों में।
तोड़कर दिल को मेरे इश्क़ के बाजारों में।
Phool gufran
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
बहुत समय हो गया, मैं कल आया,
बहुत समय हो गया, मैं कल आया,
पूर्वार्थ
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
2830. *पूर्णिका*
2830. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
लिख / MUSAFIR BAITHA
लिख / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...