Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

किसको फुर्सत है रखी, किसको रोता कौन (हास्य कुंडलिया)

किसको फुर्सत है रखी, किसको रोता कौन (हास्य कुंडलिया)
———————–
किसको फुर्सत है रखी ,किसको रोता कौन
खबर मिली जब चल बसे,रखा दो मिनट मौन
रखा दो मिनट मौन ,मौज फिर सबकी चालू
पूड़ी हलवा भोज , रायता टिकिया आलू
कहते रवि कविराय ,आयु पूरी कर खिसको
मुड़ो न देखो बंधु , शोक है कितना किसको
——————
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
"अहा जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
रजनी कजरारी
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
जवाब ना दिया
जवाब ना दिया
Madhuyanka Raj
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
*बहुत अच्छाइ‌याँ हैं, मन्दिरों में-तीर्थ जाने में (हिंदी गजल
*बहुत अच्छाइ‌याँ हैं, मन्दिरों में-तीर्थ जाने में (हिंदी गजल
Ravi Prakash
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
Abhishek Soni
जिस्मों के चाह रखने वाले मुर्शद ,
जिस्मों के चाह रखने वाले मुर्शद ,
शेखर सिंह
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
VINOD CHAUHAN
इल्म हुआ जब इश्क का,
इल्म हुआ जब इश्क का,
sushil sarna
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
-जीना यूं
-जीना यूं
Seema gupta,Alwar
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
The Lost Umbrella
The Lost Umbrella
R. H. SRIDEVI
😢😢
😢😢
*प्रणय प्रभात*
पश्चिम का सूरज
पश्चिम का सूरज
डॉ० रोहित कौशिक
जय जय दुर्गा माता
जय जय दुर्गा माता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
Subhash Singhai
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
Ram Krishan Rastogi
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
Vinod Patel
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
ruby kumari
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
कवि रमेशराज
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
Rj Anand Prajapati
पहली मुलाकात ❤️
पहली मुलाकात ❤️
Vivek Sharma Visha
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...