Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2023 · 2 min read

किसकी कश्ती किसका किनारा

इस भाग के साथ ही “किसकी कश्ती किसका किनारा ” का पहला सीजन पूरा हुआ। हेमंत और मयंक की जिंदगी में अब आगे कई बदलाव होने वाले हैं। इसका एक अंश पढ़िए और अपनी पढ़ने की इच्छा को बनाए रखिए ——–

प्रभा – दीपक जी!
दीपक – जी! मैडम!
प्रभा – आपसे एक …
दीपक – बोलिए मैडम!
प्रभा – काम बोलूं या बेबसी ….. पर आपको इसे करना है!
दीपक – मैं….. समझा नहीं…..
प्रभा – मैं आपके सामने दुखड़ा नहीं रो सकती पर……
दीपक -देखिए मैडम! मैं हॉस्पिटल में सपोर्टिंग स्टाफ हूं ये कोई कानूनन….
प्रभा ने इधर उधर देखा और दीपक के कान के पास आकर फुसफुसाई – कानून से हो सकता तो मैं आपसे इस तरह अकेले में नहीं मिलती। सीधे कह देती हूं आप किसी को किडनैप कर सकते हो?
दीपक की हवा खराब हो गई वे बोले – क्या…. क्या….?
प्रभा ने दीपक के मन को बदलने के लिए अगला पैंतरा फेंका – इसके बदले आपको मैं इतनी रकम दे सकती हूं….. जिसमें तुम एक स्टैंडर्ड लाइफ जी सकते हो!
दीपक – आप ये किसी बेबसी में कर रही हो?
प्रभा – हां! क्योंकि मैं मां पहले हूं….
दीपक – बेबसी में आप अपराधी क्यों बन रही हैं? और मुझे भी बना रही हैं? फिर मुझे ही क्यों?
प्रभा – इसका भी जबाव आपको खुद मिल जायेगा , पहले इस काम को हां तो कहिए !
दीपक ने धीमे स्वर में कहा – रकम कितनी मिलेगी?
प्रभा – काम के मुताबिक जितनी आप चाहें!
दीपक की आंखों में चमक आई और बोला – कौन है वो जिसके लिए आप इतना…..
प्रभा ने एक नाम लिया और दीपक को लगा उसे एक साथ हजारों बिच्छुओं ने डंक मारा हो! वेअचंभित होने के साथ मन ही मन प्रभा के इस काम को किसी दानव के काम से तुलना करने लगे।
…… क्रमश:
आखिर कौन वो शख्स था जिसे प्रभा किडनैप कराना चाहती थी?
इसके लिए दीपक को ही चुनने की प्रभा की मंशा के पीछे क्या कारण था?
सबसे जरूरी कि प्रभा की बेबसी क्या थी? जिसके लिए वह अपराधी बनने में भी नहीं झिझक रही थी?
इन सब बातों के जवाब के लिए ” किसकी कश्ती किसका किनारा ” सीजन -2 की प्रतीक्षा कीजिए।
# अभी सिर्फ प्रतिलिपि ऐप पर

2 Likes · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-44💐
💐अज्ञात के प्रति-44💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
"मुग़ालतों के मुकुट"
*Author प्रणय प्रभात*
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
गेसू सारे आबनूसी,
गेसू सारे आबनूसी,
Satish Srijan
पानी
पानी
Er. Sanjay Shrivastava
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
Mohan Pandey
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
शिव प्रताप लोधी
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
*बीमारी जिसको हुई, उसका बंटाधार (कुंडलिया)*
*बीमारी जिसको हुई, उसका बंटाधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
कभी हमको भी याद कर लिया करो
कभी हमको भी याद कर लिया करो
gurudeenverma198
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
Sanjay ' शून्य'
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
हम मुहब्बत कर रहे थे
हम मुहब्बत कर रहे थे
shabina. Naaz
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
ज़िंदगी देती है
ज़िंदगी देती है
Dr fauzia Naseem shad
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
आलेख-गोविन्द सागर बांध ललितपुर उत्तर प्रदेश
आलेख-गोविन्द सागर बांध ललितपुर उत्तर प्रदेश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Neeraj Agarwal
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Betulwala
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
"पुरानी तस्वीरें"
Lohit Tamta
Loading...