Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)

किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
*************
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है
तरल भावों की रस-धारा को, मन सुख-धाम कहता है
मौहब्बत कृष्ण से किसकी, हुई है आज तक ज्यादा
किसी से पूछ लो हर कोई, मीरा नाम कहता है
***************************
रचयिता:रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 999 76154 51

357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*आत्मविश्वास*
*आत्मविश्वास*
Ritu Asooja
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
#चालबाज़ी-
#चालबाज़ी-
*Author प्रणय प्रभात*
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-470💐
💐प्रेम कौतुक-470💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
सगीर गजल
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*यात्रा पर लंबी चले, थे सब काले बाल (कुंडलिया)*
*यात्रा पर लंबी चले, थे सब काले बाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जीवात्मा
जीवात्मा
Mahendra singh kiroula
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
Atul "Krishn"
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
2604.पूर्णिका
2604.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इजहार ए मोहब्बत
इजहार ए मोहब्बत
साहित्य गौरव
"दिल्लगी"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
ईच्छा का त्याग -  राजू गजभिये
ईच्छा का त्याग - राजू गजभिये
Raju Gajbhiye
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
sushil sarna
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
साक्षर महिला
साक्षर महिला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मौत आग का दरिया*
*मौत आग का दरिया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
Sanjay ' शून्य'
Loading...