Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

किताबें

किताबें

मेरे पास हैं बहुत सी किताबें
कुछ नई, कुछ पुरानी किताबें.

कुछ कहानी, कुछ गीतों वाली
कुछ जासूसी, कुछ परियों वाली.

कुछ कॉमिक्स, कुछ कोर्स की
पर ज्यादातर, जनरल नालेज की.

कुछ महंगी, तो कुछ सस्ती
कुछ रुलाती तो कुछ हँसाती.

मैंने तो कर ली है इनसे दोस्ती
दोस्ती कर लो तुम भी जल्दी.

-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
बरस  पाँच  सौ  तक रखी,
बरस पाँच सौ तक रखी,
Neelam Sharma
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
क्या लिखते हो ?
क्या लिखते हो ?
Atul "Krishn"
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
Seema Verma
💐प्रेम कौतुक-488💐
💐प्रेम कौतुक-488💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
"कारवाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
".... कौन है "
Aarti sirsat
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुझमें एक जन सेवक है,
मुझमें एक जन सेवक है,
Punam Pande
मुझे सोते हुए जगते हुए
मुझे सोते हुए जगते हुए
*Author प्रणय प्रभात*
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
Dr. Man Mohan Krishna
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
चाहे मिल जाये अब्र तक।
चाहे मिल जाये अब्र तक।
Satish Srijan
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
2651.पूर्णिका
2651.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जाने कहाँ से उड़ती-उड़ती चिड़िया आ बैठी
जाने कहाँ से उड़ती-उड़ती चिड़िया आ बैठी
Shweta Soni
कातिल
कातिल
Gurdeep Saggu
सपने
सपने
Divya kumari
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...