Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2023 · 1 min read

कितने भारत

उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
जैसे मैं कोई भिखारी था,
घृणा भरी नजरों से मुझे ऐसे देखा,
जैसे मैं पाकिस्तानी पड़ौसी था।।

खैर मैं तो मुसलमान था,
पर उसने मुझे हिंदू ही समझा,
और आदेश मुझे ऐसे दिया,
जैसे मैं किसी गुलामी का प्रतीक था।।

मैंने उसकी कार साफ की,
और मजूरी लेने हाथ आगे बढ़ा दिया,
वासे चावल उसने मेरे हाथों ऐसे थमा दिए,
जैसे मैं सड़ा गला दाल भात खाने वाला कीड़ा था।।

भारत बेरोजगार बिहार भूखा था,
इसलिए मैं उसे भी चाब से खा गया,
हरेक दाने की कीमत समझता था,
क्योंकि मैं फसल बर्बाद हुआ किसान था।।

मगध देश की सरहदें पार कर,
पता नहीं मैं किस देश में घुसपैठ कर गया,
जहाँ हर कोई भारतीय था,
मगर मुझे सभी ने बिहारी बना दिया..।।

prAstya….(प्रशांत सोलंकी)

Language: Hindi
2 Likes · 405 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
Rajesh Tiwari
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
Phool gufran
सफलता
सफलता
Babli Jha
जवाब के इन्तजार में हूँ
जवाब के इन्तजार में हूँ
Pratibha Pandey
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
"एहसासों के दामन में तुम्हारी यादों की लाश पड़ी है,
Aman Kumar Holy
ऐसे थे पापा मेरे ।
ऐसे थे पापा मेरे ।
Kuldeep mishra (KD)
मैत्री//
मैत्री//
Madhavi Srivastava
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
sushil sarna
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
3112.*पूर्णिका*
3112.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
जगदीश शर्मा सहज
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
सत्य कुमार प्रेमी
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
संविधान  की बात करो सब केवल इतनी मर्जी  है।
संविधान की बात करो सब केवल इतनी मर्जी है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
सेवा कार्य
सेवा कार्य
Mukesh Kumar Rishi Verma
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
Paras Nath Jha
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रोना भी जरूरी है
रोना भी जरूरी है
Surinder blackpen
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
Sarfaraz Ahmed Aasee
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सोशल मीडिया पर
सोशल मीडिया पर
*Author प्रणय प्रभात*
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Loading...