Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

कितने बड़े हैवान हो तुम

☺️क्या क्या हो तुम😊

धरती के बड़े स्वान हो तुम,
इस धरा के शैतान हो तुम,,

दिन में दीन रात के हीन,
बने फिरते हैवान हो तुम,,

बड़े बड़े है खानदान तुम्हारे,
खानदानी भगवान हो तुम,

तुम मारो काटो कूटो कुचलो,
पर गरीबों में धनवान हो तुम,,

एक तरफ तो जै जै कारी,
पर कपूत सन्तान हो तुम,,

खुदको सदा खुदही बखानो,
ऐसे मुंहफट बखान हो तुम,,

कितनी आपाधापी जीवन में,
अवगुण की तो खदान हो तुम,,

लज्ज़ा की बस बात करत हो,
ये कैसे बने शीलवान हो तुम,,

कम तोलो मीठा बोलो धेय,
ऐसे ठगी तुलादान हो तुम,,

कैसे कैसे दावे वादे करते हो,
मनु पर खट्टे पकवान हो तुम,,

✍️आपका🙏
मानक लाल मनु विनीता मनु Manu Std

296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्षितिज
क्षितिज
Dr. Kishan tandon kranti
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
54….बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसम्मन मुज़ाफ़
54….बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसम्मन मुज़ाफ़
sushil yadav
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरा सोमवार
मेरा सोमवार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सफर में हमसफ़र
सफर में हमसफ़र
Atul "Krishn"
बातें करते प्यार की,
बातें करते प्यार की,
sushil sarna
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
Sanjay ' शून्य'
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
Swara Kumari arya
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
काले काले बादल आयें
काले काले बादल आयें
Chunnu Lal Gupta
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
Dr MusafiR BaithA
खुशियों की डिलीवरी
खुशियों की डिलीवरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सत्य कुमार प्रेमी
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
ये रब की बनाई हुई नेमतें
ये रब की बनाई हुई नेमतें
Shweta Soni
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अनजान राहें अनजान पथिक
अनजान राहें अनजान पथिक
SATPAL CHAUHAN
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
Loading...