Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

“काहे का स्नेह मिलन”

“काहे का स्नेह मिलन”
क्यों हो गया है आज जमीर लुप्त सबका
बहाना बनाते स्नेह मिलन समारोह का
मकसद तो है अपने समाज का मिलाप
अभिनन्दन करते सिर्फ दान दाताओं का,
पहचान बनाते परिषद सादुलपुर समस्त
फैलाव करते हैं मात्र अपनी रिश्तेदारी का
पदों का आसन लगा काहे का स्नेह मिलन
उठ जाओ यहां से ये तरीक़ा अभिवादन का,
दान राशि अनुसार बोली का रवैया बदलता
नाटक करते हैं पहले श्रद्धानुसार शुल्क का
जेब भरी मोटी जिसने वो कहलाया वीआईपी
शेष को बाइज्जत रास्ता दिखाया पार्किंग का,
संकुचाहट के साथ क्यों बैठे हो तुम दबे दबे से
खुल के करो ना प्रचार अपने अपने समाज का
प्रयत्न करने से मोटी पेटियां भी भर ही जाएंगी
प्रति माह होगा जब कार्यक्रम स्नेह मिलन का।

Language: Hindi
1 Like · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Dr Meenu Poonia

You may also like:
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
💐प्रेम कौतुक-296💐
💐प्रेम कौतुक-296💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
बेफिक्री की उम्र बचपन
बेफिक्री की उम्र बचपन
Dr Praveen Thakur
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
🦋 *आज की प्रेरणा🦋
🦋 *आज की प्रेरणा🦋
तरुण सिंह पवार
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
भगतसिंह के चिट्ठी
भगतसिंह के चिट्ठी
Shekhar Chandra Mitra
■ कटाक्ष....
■ कटाक्ष....
*Author प्रणय प्रभात*
पारो
पारो
Acharya Rama Nand Mandal
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
धूल
धूल
नन्दलाल सुथार "राही"
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
करीब हो तुम मगर
करीब हो तुम मगर
Surinder blackpen
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
दुनिया मेरे हिसाब से, छोटी थी
दुनिया मेरे हिसाब से, छोटी थी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बरसात
बरसात
surenderpal vaidya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
हालात और मुकद्दर का
हालात और मुकद्दर का
Dr fauzia Naseem shad
"प्रेमको साथी" (Premko Sathi) "Companion of Love"
Sidhartha Mishra
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
Rajesh Kumar Kaurav
विनय
विनय
Kanchan Khanna
मां जब मैं रोजगार पाऊंगा।
मां जब मैं रोजगार पाऊंगा।
Rj Anand Prajapati
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
Simmy Hasan
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...