Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

“काहे का स्नेह मिलन”

“काहे का स्नेह मिलन”
क्यों हो गया है आज जमीर लुप्त सबका
बहाना बनाते स्नेह मिलन समारोह का
मकसद तो है अपने समाज का मिलाप
अभिनन्दन करते सिर्फ दान दाताओं का,
पहचान बनाते परिषद सादुलपुर समस्त
फैलाव करते हैं मात्र अपनी रिश्तेदारी का
पदों का आसन लगा काहे का स्नेह मिलन
उठ जाओ यहां से ये तरीक़ा अभिवादन का,
दान राशि अनुसार बोली का रवैया बदलता
नाटक करते हैं पहले श्रद्धानुसार शुल्क का
जेब भरी मोटी जिसने वो कहलाया वीआईपी
शेष को बाइज्जत रास्ता दिखाया पार्किंग का,
संकुचाहट के साथ क्यों बैठे हो तुम दबे दबे से
खुल के करो ना प्रचार अपने अपने समाज का
प्रयत्न करने से मोटी पेटियां भी भर ही जाएंगी
प्रति माह होगा जब कार्यक्रम स्नेह मिलन का।

Language: Hindi
1 Like · 214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
आज़ाद जयंती
आज़ाद जयंती
Satish Srijan
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
*युद्ध*
*युद्ध*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"रातरानी"
Ekta chitrangini
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
फिर एक समस्या
फिर एक समस्या
A🇨🇭maanush
सत्यं शिवम सुंदरम!!
सत्यं शिवम सुंदरम!!
ओनिका सेतिया 'अनु '
............
............
शेखर सिंह
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
कवि दीपक बवेजा
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
Neelam Sharma
"खेलों के महत्तम से"
Dr. Kishan tandon kranti
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
।। आशा और आकांक्षा ।।
।। आशा और आकांक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
चलो रे काका वोट देने
चलो रे काका वोट देने
gurudeenverma198
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
■ मानवता से दानवता की ओर जाना काहे का विकास?₹
■ मानवता से दानवता की ओर जाना काहे का विकास?₹
*प्रणय प्रभात*
"कथा" - व्यथा की लिखना - मुश्किल है
Atul "Krishn"
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
Mamta Singh Devaa
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बचपन बेटी रूप में
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
हिम्मत कर लड़,
हिम्मत कर लड़,
पूर्वार्थ
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
Loading...