Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2019 · 1 min read

काष्ठकार हैं कहलाते

कोई कहे बढ़ई कोई कहता है खाती
कोई हमको कहता है सुतार
लकड़ी है हमारी रोजी रोटी
हम कहलाते हैं काष्ठकार
????
मिला हमें पूर्वजों से विरासत में
काष्ठकारी का अनूठा धंधा
वनों की कटाई मानव का
दुष्कृत्य
जिसने किया हमारा काम मंदा।
????
हम लकड़ी के बाजीगर हैं बंधु
लकड़ी की कृतियां गढ़ते हम
परिश्रम से जीविका कमाते
नहीं करते भिक्षा वृत्ति हम।
????
यह माना कि हम हैं निर्धन
काया से मजबूत न हम।
किन्तु सुबह शाम की रोटी
मिल जाती करते हम श्रम।
????
कर्मशील हैं अकर्मण्य नहीं हम
जो किस्मत से जोड़ें नाता।
किस्मत के भरोसे हम न बैठें
मेहनत की हैं खाते हरदम।
??
कमजोर सही दमदार हैं हम,
है हमारे बाहुबल में दम।
हम न हारेगें मेहनत से,
खुद हारेगा हम ही से श्रम।
??
हाथों में देखो चुभ रहा है घर्षण ,
राहें हमारी पथरीली न हैं नर्म।
राहों के रोड़े खुद चुन फेंकेंगे,
खुद के काम में कैसी शर्म
????
अपने मरे ही स्वर्ग है मिलता,
समझ लिया जीवन का यह मर्म।
अपने भुजबल पर है हमें भरोसा,
शुद्ध हृदय से करेंगे अपना कर्म।
????

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Language: Hindi
278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ranjana Mathur
View all
You may also like:
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
कोई साया
कोई साया
Dr fauzia Naseem shad
विरहन
विरहन
umesh mehra
मैं चाहता हूँ अब
मैं चाहता हूँ अब
gurudeenverma198
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
इरादे नहीं पाक,
इरादे नहीं पाक,
Satish Srijan
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
आइए मोड़ें समय की धार को
आइए मोड़ें समय की धार को
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
Manju Singh
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अमर काव्य
अमर काव्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐💐छोरी स्मार्ट बन री💐💐
💐💐छोरी स्मार्ट बन री💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम तेरी माया
राम तेरी माया
Swami Ganganiya
■ लघु व्यंग्य-
■ लघु व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Ajj bade din bad apse bat hui
Ajj bade din bad apse bat hui
Sakshi Tripathi
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
2444.पूर्णिका
2444.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शोषण
शोषण
साहिल
Loading...