Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2021 · 1 min read

काश.! मैं वृक्ष होता

रंग बिरंगे पुष्प खिलाता
मन भावन खुशबु फैलाता।

बिन मांगे ही फल देता
कुछ ना अपने लिए बचाता।

परोपकार में होता दक्ष
काश! मै बन जाऊँ वृक्ष।

प्रेम सुधा बरसात सब पर
चाहें खग हो, चाहे चौपाया।

नव जीवन भर देती सब में
मेरी ठंडी, शीतल छाया।

करता न्याय होकर निष्पक्ष
काश! मै बन जाऊँ वृक्ष।

©® डॉ. मुल्ला आदम अली
तिरुपति – आंध्र प्रदेश

Language: Hindi
2 Likes · 358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
Sanjay ' शून्य'
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तेरी कमी......
तेरी कमी......
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
अनिल
अनिल "आदर्श "
अनिल "आदर्श"
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
जिसको गोदी मिल गई ,माँ की हुआ निहाल (कुंडलिया)
जिसको गोदी मिल गई ,माँ की हुआ निहाल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
इस बार
इस बार "अमेठी" नहीं "रायबरैली" में बनेगी "बरेली की बर्फी।"
*Author प्रणय प्रभात*
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
रैन  स्वप्न  की  उर्वशी, मौन  प्रणय की प्यास ।
रैन स्वप्न की उर्वशी, मौन प्रणय की प्यास ।
sushil sarna
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
निशाना
निशाना
अखिलेश 'अखिल'
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2580.पूर्णिका
2580.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
gurudeenverma198
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*चाल*
*चाल*
Harminder Kaur
💐प्रेम कौतुक-550💐
💐प्रेम कौतुक-550💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दंगे-फसाद
दंगे-फसाद
Shekhar Chandra Mitra
हे अयोध्या नाथ
हे अयोध्या नाथ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुश्किलों पास आओ
मुश्किलों पास आओ
Dr. Meenakshi Sharma
Meri najar se khud ko
Meri najar se khud ko
Sakshi Tripathi
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
Phool gufran
We all have our own unique paths,
We all have our own unique paths,
पूर्वार्थ
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
Vishal babu (vishu)
Loading...