Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 2 min read

*काल क्रिया*

Dr Arun kumar shastri एक अबोध बालक 0 अरुण अतृप्त

* काल क्रिया *

मेरा अनुभव मेरे प्रारबधिक अनुशासन की
सीमाओं से सीमित हैं ।
अनुशंसा की रेखाओं से घिरे हुए अद्यतन अनुशंसित हैं ।

अटल नहीं है कुछ भी जग में, जग तो पल पल बदल रहा ।
जग की इसी प्रतिष्ठित प्रतिभ प्रतिष्ठा से , मन मानव का है भीग रहा ।

आया था सो चला गया , नवनीत उजस फैला नभ में
चहुं और उजाला छाया ।
नव अंकुर प्रति पल धधक रहे , हर तन में शंकित हृदय प्रणय भाव के बीज पनप रहे।

छोटी चिड़िया से फुदक रहे हर कोई यहाँ फिर भी देखो ।
कुछ नया खेल दिखलायेगा ये युग है परिवर्तनशील सदा।।

बस यही सत्य रह जायेगा बस यही सत्य रह जायेगा ।
तुम मानो या ना मानो जो कहनी थी सो कह दी मैंने।

ये दंभ नहीं मेरे विचार हैं, मेरी अनुभूति है मेरी प्रज्ञा है।
प्राकृत प्रकृति सा आशय है किंचित न इसमें संशय है।

मैं एक अकेला अलबेला कहने को निपट गंवार कहो।
ज्ञान विज्ञान से दूर नहीं समझो, तुमसा भी कोई और नहीं।

मेरा अनुभव मेरे प्रारबधिक अनुशासन की
सीमाओं से सीमित हैं ।
अनुशंसा की रेखाओं से घिरे हुए अद्यतन अनुशंसित हैं ।

लड़ता हूं अपने प्रारब्ध से जुड़ा हूं अपने अतीत से वर्तमान तक।
काल की सतत क्रिया से बंधा हुआ काल चक्र में आकंठ डूबा।

राशियों का समीकरण बदलने को भाग्य के साथ चल रहा।
हाथ की रेखाओं को मिटाने की कोशिश करता हुआ, जीत दर्ज कर रहा।

तुम अपनी जानो मैं अपनी बात रख रहा, मानव हुं, विधाता की अनुपम रचना।
आशय विशेष महत्त्व अनिमेष उत्कृष्टता की ओर पल पल क़दम कदम बढ़ रहा।

मेरा अनुभव मेरे प्रारबधिक अनुशासन की
सीमाओं से सीमित हैं ।
अनुशंसा की रेखाओं से घिरे हुए अद्यतन अनुशंसित हैं ।

Language: Hindi
73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
Rachana
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
Harminder Kaur
At the end of the day, you have two choices in love – one is
At the end of the day, you have two choices in love – one is
पूर्वार्थ
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
ग़ज़ल _ शबनमी अश्क़ 💦💦
ग़ज़ल _ शबनमी अश्क़ 💦💦
Neelofar Khan
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
विवशता
विवशता
आशा शैली
When winter hugs
When winter hugs
Bidyadhar Mantry
लाड बिगाड़े लाडला ,
लाड बिगाड़े लाडला ,
sushil sarna
दिए जलाओ प्यार के
दिए जलाओ प्यार के
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शिव - दीपक नीलपदम्
शिव - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं नारी हूँ
मैं नारी हूँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
Kr. Praval Pratap Singh Rana
यह  सिक्वेल बनाने का ,
यह सिक्वेल बनाने का ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जब लोग आपसे खफा होने
जब लोग आपसे खफा होने
Ranjeet kumar patre
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कहीं पे पहुँचने के लिए,
कहीं पे पहुँचने के लिए,
शेखर सिंह
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
संवेदना की आस
संवेदना की आस
Ritu Asooja
विडम्बना की बात है कि
विडम्बना की बात है कि
*प्रणय प्रभात*
3206.*पूर्णिका*
3206.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
Sanjay ' शून्य'
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
पिता
पिता
Raju Gajbhiye
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...