Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

काल का स्वरूप🙏

काल का स्वरूप🙏
🔵🔵🔵🔵🔵🔵🕜
बसंत सुहानी सुर रसीला
मधुबन बरखा संग सजीला
गात लचीला विराट स्वरूपा

सौ मयूरी की नाच दिखाता
लपक झपक राधा बरज़ोरी
बड़े मज़े की ये संग सहेली

सुहागनआंगन बाल बिखेरी
खिले धूप प्रकृति रानी की
किशोरीअवस्थाधूप सुहानी

दिन उगा स्वर संगीत छिड़ा है
परदेशी घर की याद में डुबा है
कालचक्र प्रतिपल साथ खड़ा

वादी से चली हवाएँ चुमती है
तारे साज बजा घन बरसाता
शामउषा चाल निशा निराली

दिवा मतवाली मातम छाती
सोच विचार में समय बीताती
चलती पवन कहता मानस में

पगली पगली खुशबु चमेली
बोल ज़रा तूं छोड़ कहाँ चली
वाणी की पाणि फड़क उठता

काल समय सामने खड़ा होता
बीते दिनों की याद सताता है
भारत माँ पर काल मड़राता है

संगीन कुर्बानी शहीद सामने
जोश भर आगे बढ़ने कहता है
तेरे पर आस टिकाया खुशी ने

सहत्र माता पिता भाई बहना है
अकेला नहीं विरान पतझड़ में
मन मांग सजा बैठी सुहागिन

विरह मिलन कीआस लगाई है
विजयी बन मिल सहचर प्यारी
साज सिंदुर माथे पर विंदिया

बालों पर गजरा आंखें कजरारी
सोलह श्रृंगार सजाना आलिंगन
कर समय को देख चलते चलना

समझ बुझ आगे कदम बढ़ाना
समय पहर पल काल वक्त का
आकार प्रकार विविध स्वरूप है
🔵🔵🔵🔵🔵🔵🔵🔵🔵
तारकेशवर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
-- मैं --
-- मैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
sudhir kumar
क्या पता...... ?
क्या पता...... ?
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
एक सलाह, नेक सलाह
एक सलाह, नेक सलाह
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कन्या पूजन
कन्या पूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
बेरंग दुनिया में
बेरंग दुनिया में
पूर्वार्थ
सिंहपर्णी का फूल
सिंहपर्णी का फूल
singh kunwar sarvendra vikram
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम.... मन
प्रेम.... मन
Neeraj Agarwal
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
*जन्म लिया है बेटी ने तो, दुगनी खुशी मनाऍं (गीत)*
*जन्म लिया है बेटी ने तो, दुगनी खुशी मनाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
Loading...