Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2017 · 1 min read

काला आसमान

क्या हो जब आसमान
अपने रंगों से हो ख़फ़ा
अपने लाल नीले रंगों को
काली सफ़ेद स्याही में भिगो देगा
सब कुछ काला और धूसर

क्या तब भी तुम
उसकी तस्वीरें खींचोगे
और अपने बुरे दिनों में
उन्हें महसूस करोगे

क्या तब तुम हाथ बढ़ाकर
लोगों से मिलोगे खुश होकर
और कहोगे, सब कुछ ठीक है!

–प्रतीक

Language: Hindi
2 Likes · 513 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
जिंदगी का सवाल आया है।
जिंदगी का सवाल आया है।
Dr fauzia Naseem shad
ना कर नज़रंदाज़ देखकर मेरी शख्सियत को, हिस्सा हूं उस वक्त का
ना कर नज़रंदाज़ देखकर मेरी शख्सियत को, हिस्सा हूं उस वक्त का
SUDESH KUMAR
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
महामारी एक प्रकोप
महामारी एक प्रकोप
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
गर्व की बात
गर्व की बात
इंजी. संजय श्रीवास्तव
संवेदनहीनता
संवेदनहीनता
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
किस्से हो गए
किस्से हो गए
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
Mangilal 713
■ चार पंक्तियां अपनी मातृभूनि और उसके अलंकारों के सम्मान में
■ चार पंक्तियां अपनी मातृभूनि और उसके अलंकारों के सम्मान में
*प्रणय प्रभात*
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
काव्य भावना
काव्य भावना
Shyam Sundar Subramanian
कन्या रूपी माँ अम्बे
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
"गारा"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे
दोहे
डॉक्टर रागिनी
अन्तिम स्वीकार ....
अन्तिम स्वीकार ....
sushil sarna
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
2706.*पूर्णिका*
2706.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
Sunil Maheshwari
Loading...