Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

कारवाँ थम रहा है साँसों का

कारवाँ थम रहा है’ सांसों का
पर भरोसा है तेरे’ वादों का

बस अँधेरा है और तन्हाई
जल रहा है चराग यादों का

क्यूँ जुदाई लिखी हैं किस्मत में
क्यूँ नज़ारा यहाँ है आहों का

आसमाँ छुप गया घटाओं में
इश्क़ में है असर फ़िज़ाओं का

ख़्वाब तेरे जला रहे मुझको
दोष इतना है’ इन निगाहों का

नफ़रतों का ही ख़ौफ़ पसरा है
हैं सफ़र मेरा’ दिल की’ राहों का

बेवफ़ाई मुझे नहीं आती
है वफ़ा काम मेरी बातों का

हो मिलन जब तो’ तुम मिलो ऐसे
गुल शज़र हो नज़र गुलाबों का

मक्ता ए शेर
ख़्वाब जज़्बाती’ दिल दिखाता है
बस वफ़ा हो सिला वफाओं का
जज़्बाती

1 Like · 1 Comment · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राधा कृष्ण होली भजन
राधा कृष्ण होली भजन
Khaimsingh Saini
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
Neelam Sharma
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
Phool gufran
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
शेखर सिंह
अच्छी बात है
अच्छी बात है
Ashwani Kumar Jaiswal
अलगाव
अलगाव
अखिलेश 'अखिल'
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
23/179.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/179.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
गरीब और बुलडोजर
गरीब और बुलडोजर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
Vindhya Prakash Mishra
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
✍️ D. K 27 june 2023
✍️ D. K 27 june 2023
The_dk_poetry
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माँ
माँ
Kavita Chouhan
सेंधी दोहे
सेंधी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*डॉ अरुण कुमार शास्त्री*
*डॉ अरुण कुमार शास्त्री*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
क्या लिखूँ
क्या लिखूँ
Dr. Rajeev Jain
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
मोबाइल (बाल कविता)
मोबाइल (बाल कविता)
Ravi Prakash
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
Suryakant Dwivedi
Loading...