Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2023 · 1 min read

कारण कोई बतायेगा

‌‌ ‌कारण कोई बतायेगा
क्यों टुटी,क्यों टुट रहीं, कारण कोई बतायेगा।
सीना तान कर कोईं क्षत्रिय अपना पन दिखायेगा।।
जाति धर्म,जाति भेद, कोई ब्राह्मण इसे हटायेगा
ब्राह्मण, क्षत्रिय,वैश्य,शुद्र,,वर्ण भेद मिटायेगा ।।
जाग उठेगा हिन्दू,उस दिन, वर्ण भेद मिट जायेगा।
ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शुद्र,एक बिंदु में मिल जायेगा।।
क्यों टुटी, क्यों टुट रहीं कारण कोई बतायेगा।।
हिन्दू बना था ,हिन्दू का दुश्मन,छुआ छुत बढ़ाया था।
दबंग बनें थे सवर्ण जाति,बाकी को दलित बनाया था।।
त्रस्त किया था जन समुदाय को,पीड़ा खुब पहुंचाया था।
कलमकार के विजय लेख , कोई सज्जन पढ़ पायेगा।
क्यों टुटी क्यों टुट रहीं, कारण कोई बतायेगा।।
किसने लिखा वेद शास्त्र, किसने लिखा रामायण।
किसने लिखा,बीजक मंत्र,किसने लिखा नमायण।।
किसने कहा गीता सार, बता सकता है कोंई।
दे सकता है,तो दे दे हमें,जो अधिकार दलित खोई।।
हम हिंदू हैं, हिन्दू रहेंगे,कौन हिन्दू बनायेगा।
क्यों टुटी क्यों टुट रहीं, कारण कोई मिटायेगा।।

डां, विजय कुमार कन्नौजे अमोदी वि खं आरंग जिला रायपुर छत्तीसगढ़

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये।
नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये।
डॉक्टर रागिनी
"देश भक्ति गीत"
Slok maurya "umang"
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
आर.एस. 'प्रीतम'
फ़ना
फ़ना
Atul "Krishn"
कोई चाहे कितने भी,
कोई चाहे कितने भी,
नेताम आर सी
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
पंकज प्रियम
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मत बांटो इंसान को
मत बांटो इंसान को
विमला महरिया मौज
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
"होली है आई रे"
Rahul Singh
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
Neelam Sharma
जिनके अंदर जानवर पलता हो, उन्हें अलग से जानवर पालने की क्या
जिनके अंदर जानवर पलता हो, उन्हें अलग से जानवर पालने की क्या
*Author प्रणय प्रभात*
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
Rohit yadav
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
2845.*पूर्णिका*
2845.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
नसीहत
नसीहत
Shivkumar Bilagrami
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
*बाढ़*
*बाढ़*
Dr. Priya Gupta
दिन भर घूमती हैं लाशे इस शेहर में
दिन भर घूमती हैं लाशे इस शेहर में
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मिसाइल मैन को नमन
मिसाइल मैन को नमन
Dr. Rajeev Jain
"सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
हर क्षण का
हर क्षण का
Dr fauzia Naseem shad
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...