Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2024 · 1 min read

काम क्रोध मद लोभ के,

काम क्रोध मद लोभ के,
मन छलनी में छेद ।
वेद मौन इस प्रश्न पर,
मन के कितने भेद ।।

सुशील सरना / 9-3-24

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
Paras Nath Jha
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
Manisha Manjari
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
लत
लत
Mangilal 713
Mental health
Mental health
Bidyadhar Mantry
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
“बप्पा रावल” का इतिहास
“बप्पा रावल” का इतिहास
Ajay Shekhavat
दुनिया की कोई दौलत
दुनिया की कोई दौलत
Dr fauzia Naseem shad
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बीत जाता हैं
बीत जाता हैं
TARAN VERMA
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
2777. *पूर्णिका*
2777. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माफ़ कर दो दीवाने को
माफ़ कर दो दीवाने को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कवि रमेशराज
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
*आते हैं कुछ जेल से, जाते हैं कुछ जेल (कुंडलिया)*
*आते हैं कुछ जेल से, जाते हैं कुछ जेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो इश्क किस काम का
वो इश्क किस काम का
Ram Krishan Rastogi
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ प्रणय के मुक्तक
■ प्रणय के मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
चले न कोई साथ जब,
चले न कोई साथ जब,
sushil sarna
"अहङ्कारी स एव भवति यः सङ्घर्षं विना हि सर्वं लभते।
Mukul Koushik
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
"काल-कोठरी"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...