Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2024 · 1 min read

“कामदा: जीवन की धारा” _____________.

.”कमदा” एक हिंदी शब्द है जिसका अर्थ होता है ” संवर्धन करने वाला” या “अनुप्रयोगी”। यह शब्द विभिन्न अवस्थाओं में प्रयोग किया जा सकता है। कमदा को कविता में उपयोग करते समय किसी काम करने वाले व्यक्ति के रूप में प्रस्तुत किया जा सकता हैं। जब कोई व्यक्ति किसी काम को पूरा करने के लिए अपनी मेहनत, समर्पण, और सामर्थ्य का प्रतिनिधित्व करता है, उसके काम में उनका प्यार, संघर्ष, और निष्ठा दिखलाने के लिए शब्द का प्रयोग किया जाता है। उसके कर्मठता और समर्पण को समृद्धि के लिए प्रशंसा के रूप में व्यक्त किया जा सकता है।
लेकिन कविता में इसका उपयोग प्राकृतिक सुंदरता और विविधता को दर्शाने के लिए किया गया है।

“कामदा: जीवन की धारा”
______________________

कामदा, जीवन की धारा,
विविधता का संगम, प्यारा।
प्रकृति की शोभा, रंग-रूप,
कामदा का विस्तार, अनूप।
अनेकता में एकता का संदेश,
कामदा की कहानी, अपना देश।
प्रेम की भावना, सदैव बखार,
कामदा की कविता, मन भावी करार।

Language: Hindi
42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mukta Rashmi
View all
You may also like:
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
नेताम आर सी
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
Keshav kishor Kumar
गलत चुनाव से
गलत चुनाव से
Dr Manju Saini
3125.*पूर्णिका*
3125.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बेटा-बेटी"
पंकज कुमार कर्ण
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
पहला प्यार सबक दे गया
पहला प्यार सबक दे गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
Ravi Prakash
" माटी की कहानी"
Pushpraj Anant
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
किसी ने चोट खाई, कोई टूटा, कोई बिखर गया
किसी ने चोट खाई, कोई टूटा, कोई बिखर गया
Manoj Mahato
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
Dushyant Kumar
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
So, blessed by you , mom
So, blessed by you , mom
Rajan Sharma
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
आसान कहां होती है
आसान कहां होती है
Dr fauzia Naseem shad
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कैसे कहें घनघोर तम है
कैसे कहें घनघोर तम है
Suryakant Dwivedi
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
शेखर सिंह
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
DrLakshman Jha Parimal
फुर्सत नहीं है
फुर्सत नहीं है
Dr. Rajeev Jain
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
Kumar lalit
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
Phool gufran
Loading...