Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

कान में रुई डाले

मानवीय लोभ ने कर दिया
अधिकांश जंगलों का नाश
पश्चिम के विचारक मानते
इसे ही औद्योगिक विकास
जल,जंगल और जमीन पर
बढ़ रहा मानव का अत्याचार
दुनिया में सतत पनप रहे रोग
व्याधियों के नए नए प्रकार
फिर भी मानवीय लोलुपता पर
कहीं लग नहीं रहा उचित ब्रेक
लोभ के कारण जंगलों में रोज
कर मानव मनमानी का अतिरेक
मौसम का मिजाज भी अब हो
गया अनिश्चितता के ही हवाले
वैज्ञानिकों की चेतावनी के बाद भी
सब मनुष्य हैं कान में रुई डाले

Language: Hindi
301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और  गृह स्
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और गृह स्
Sanjay ' शून्य'
नारी तू नारायणी
नारी तू नारायणी
Dr.Pratibha Prakash
*बात-बात में बात (दस दोहे)*
*बात-बात में बात (दस दोहे)*
Ravi Prakash
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
Shweta Soni
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"एक दीप जलाना चाहूँ"
Ekta chitrangini
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
Shubham Pandey (S P)
माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏
माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
*** यादों का क्रंदन ***
*** यादों का क्रंदन ***
Dr Manju Saini
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
Ranjeet kumar patre
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लोगो खामोश रहो
लोगो खामोश रहो
Surinder blackpen
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
Neelofar Khan
2955.*पूर्णिका*
2955.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बात
बात
Ajay Mishra
■ जय ब्रह्मांड 😊😊😊
■ जय ब्रह्मांड 😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
लेकिन क्यों
लेकिन क्यों
Dinesh Kumar Gangwar
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
Taj Mohammad
Environment
Environment
Neelam Sharma
छंद मुक्त कविता : बचपन
छंद मुक्त कविता : बचपन
Sushila joshi
Loading...