Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )

कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
देश की बदहाल स्थिति, रोज रोना बंद हो
संसाधनों को सब्सिडी की, भेंट खोना बंद हो
करना अगर खुशहाल है, यह देश चरमोत्कर्ष पर
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
रचयिताः रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
2800. *पूर्णिका*
2800. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रास्ते
रास्ते
Ritu Asooja
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
शक्ति राव मणि
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
Akash Yadav
*त्रिशूल (बाल कविता)*
*त्रिशूल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Dr. Arun Kumar Shastri
Dr. Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
फितरत या स्वभाव
फितरत या स्वभाव
विजय कुमार अग्रवाल
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
पूर्वार्थ
आभार
आभार
Sanjay ' शून्य'
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
*** भाग्यविधाता ***
*** भाग्यविधाता ***
Chunnu Lal Gupta
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
Rajendra Kushwaha
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
पत्थर तोड़ती औरत!
पत्थर तोड़ती औरत!
कविता झा ‘गीत’
प्यार है नही
प्यार है नही
SHAMA PARVEEN
है शामिल
है शामिल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ये किस धर्म के लोग हैं
ये किस धर्म के लोग हैं
gurudeenverma198
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
"जरा सोचिए"
Dr. Kishan tandon kranti
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
#धवल_पक्ष
#धवल_पक्ष
*प्रणय प्रभात*
माँ का घर
माँ का घर
Pratibha Pandey
वक़्त की मुट्ठी से
वक़्त की मुट्ठी से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...